blogid : 1 postid : 824896

चाणक्य स्वयं बन सकते थे सम्राट, पढ़िए गुरू चाणक्य के जीवन से जुड़ी अनसुनी कहानी

Posted On: 30 Dec, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

चाणक्य जिन्हें विष्णुगुप्त या कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है, भारतीय इतिहास में एक ऐसे हस्ती के रूप में विख्यात हैं जिन्होंने न सिर्फ भारतभूमि के पहले चक्रव्रती सम्राट का निर्माण किया बल्कि एक ऐसे सम्राज्य की स्थापना भी कि जिसने पहली बार भारत के अधिकांश हिस्से को एक शासन के आधीन ला दिया.

पर क्या आपको यह पता है कि चाण्क्य में स्वयं ही सम्राट बनने की संभावना थी. प्रस्तुत है चाणक्य के बाल जीवन से जुड़ी यह अद्भुत कहानी.



ch2


एक बार कि घटना है, एक ज्योतिषी बालक चाणक्य के घर पधारे. अपने पुत्र के भविष्य के प्रति आश्वस्त होने के लिये चाणक्य की मां ने अपने पुत्र की जन्मपत्री उन्हें दिखलाई.   जन्मपत्री देखकर ज्योतिषी ने बताया कि उसने आज तक ऐसी विलक्षण जन्मपत्री नहीं देखी.  इस बालक की जन्मपत्री  में तो ग्रहों का ऐसा योग पड़ा है कि वह आगे चलकर यशस्वी चक्रवर्ती सम्राट बनेगा.  यह भविष्यवाणी मिथ्या नहीं हो सकती.  यदि इस कथन की सत्यता की जांच करनी हो तो अपने पुत्र के सामने के दांत को गौर से देखना उस पर नागराज का चिन्ह अंकित होगा.


Read: आध्यात्मिक रहस्य वाला है यह आम का पेड़ जिसमें छिपा है भगवान शिव की तीसरी आंख के खुलने का राज


प्रसन्न होने के स्थान पर मां चिन्तित हो गई और सोचने लगी कि चक्रवर्ती सम्राट बन उनका पुत्र उन्हें व्यस्त होने के कारण समय नहीं दे पायेगा और पुत्र वियोग की चिन्ता में उनकी आंखों में आंसू आ गये.  उसी समय चाणक्य लौट आये और मां की आंखों में आंसू देखकर कारण पूछा.  बहुत हठ करने पर मां ने अपने मन की शंका को बालक चाणक्य के सामने प्रकट किया.


char010_chanakya


चाणक्य ने दर्पण में जा कर अपने दांत को देखा,  वास्तव में वहां नागराज का चिन्ह अंकित था.  चाणक्य ने बिना किसी विलंब के एक पत्थर उठाया और एक ही प्रहार से उस दांत को तोड़ दिया.  बालक चाणक्य ने रक्तसना दांत उठाकर मां के चरणों में रख दिया और कहा, ” मां, अब नागराज चिन्ह अंकित दांत ही नहीं रहा तो मेरे चक्रवर्ती सम्राट बनने का प्रश्न ही नहीं.  मुझे तो मेरी माता का वात्सल्य ही चाहिये.  मां ने अपने पुत्र को सीने से लगा लिया.

नागराज के चिन्ह वाला दांत टूट जाने से विष्णुगुप्त चाणक्य चक्रवर्ती सम्राट तो नहीं बन सके पर अपनी मां के आशीर्वाद से चक्रवर्ती सम्राट निर्माता अवश्य ही बन गये और उनके नीति शास्त्र पर कई चक्रवर्ती सम्राट निछावर हो गये. Next…


Read more:

इस ‘मिस्टीरियस घर’ में पांच दोस्तों ने इंट्री तो ली लेकिन आज तक निकल नहीं पाए (देंखे वीडियो)

ये दुनिया पारलौकिक शक्तियों से घिरी हुई है..किसी भी मोड़ पर अंजान रूहें आपका रास्ता रोक सकती हैं

जानिए भगवान गणेश के प्रतीक चिन्हों का पौराणिक रहस्य




Tags:                 

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran