blogid : 1 postid : 911451

इन गाँव में अपनी शाखा खोलने के लिए तरसते हैं देश के सभी बड़े बैंक

Posted On: 20 Jun, 2015 Business में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

गाँव शब्द लिखते, पढ़ते, सुनते ही मस्तिष्क में मिट्टी व छप्पर के घरों, कच्ची सड़कों, बड़ी-बड़ी गाछियों के चित्र उभरने लगते हैं. सरकारी अधिकारी गाँवों में जाना नहीं चाहते. बैंक अपनी ग्रामीण शाखा को बोझ समझती है और वहाँ कार्यरत कर्मचारी अपनी पोस्टिंग को सज़ा के तौर पर देखते हैं. यहाँ तक कि गाँवों से निकल सरकारी नौकरी करने वाले युवाओं की पोस्टिंग अगर गाँवों में नौकरी करनी पड़ती है तो वो अपने करम को कोसते आसानी से दिख जाते हैं. लेकिन हमारे देश में कुछ ऐसे गाँव भी हैं जहाँ अपनी शाखा खोलने के लिए बैंक लालायित रहते हैं. गुजरात के ये गाँव बालदिया, माधापर और केरा हैं.


baldia



बालदिया

बालदिया गाँव गुजरात के भुज में बसा है जिसमें करीब 1,300 परिवार रहते हैं. लेकिन कयास लगाये जाते हैं कि इस गाँव के बैंकों में जमा राशि तकरीबन दो हजार करोड़ रूपये हैं. बालदिया में आठ बैंक हैं.


Read: जानिये, ये भारतीय उद्योगपति हैं कितने पढ़े-लिखे


माधापर

भुज के समीप ही कुछ और गाँव भी बैंकों में जमा राशि के मामले में बालदिया जैसे ही हैं. इस गाँव में अवस्थित बैंकों की शाखाओं में करीब पाँच हजार करोड़ की जमा राशि है.


केरा

केरा गाँव में खुली बैंकों की शाखायें भी जमा राशि के मामले में बैंकाभाव वाले दूसरे गाँवों को मुँह चिढ़ाती नजर आती है. इस गाँव के बैंकों की शाखाओं में जमा राशि दो हजार करोड़ रूपये के आसपास बतायी जाती है.


Bank



क्या हैं अत्यधिक जमा राशि के कारण

करीब 9 हजार करोड़ रूपये की जमा राशि रखने वाले इन गाँवों में विभिन्न बैंकों की 30 शाखायें और 24 एटीएम हैं. इन गाँवों के अधिकाँश निवासी प्रवासी बन चुके हैं. अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया में जाकर नौकरी या व्यवसाय करने वाले ये निवासी अपने परिवार के सदस्यों के लिए अच्छी-खासी राशि भेजने लगे. यहीं नहीं वो अपने गाँव नियमित तौर पर आते-जाते रहते हैं.


Read: आपके फटे-पुराने नोटों को ऐसे किया जाता है नष्ट



इसलिये बैंक रखते हैं यहाँ आने की चाहत

बैंकों की शाखा का दुधारू होना एक वांछित शर्त है. प्रवासी निवासियों की ओर से बड़ी संख्या में भेजे जा रही राशि को अपनी शाखा की तरफ खींचने के लिए बैंकों में प्रतिस्पर्धा है. इसलिये अधिकांश बैंक इन गाँवों में अपनी शाखा खोलने को लालायित रहते हैं.


झलकती है समृद्धि

भारी संख्या में प्रवासी पैसों के कारण और बैंकों में लगी होड़ के कारण इन गाँवों में निर्मित घर, स्कूल और अस्पताल आधुनिक सुविधाओं से सम्पन्न हैं. ये चीज़ें इन गाँवों की समृद्धि का आईना दिखाती-सी प्रतीत होती है.Next…..


Read more:

इनकी वजह से अमेरिका के राष्ट्रपति को अपने बैडरूम से बाहर सोना पड़ा

कसम मोदी-शाह की दोस्ती की! अब पत्नी या प्रेमिका को हत्यारिन कहना पड़ सकता है महँगा

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति का कबूलनामा: एलियन्स की पसंदीदा जगह है पृथ्वी





Tags:                     

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran