blogid : 1 postid : 1301119

इस फैसले ने बदली लाखों लड़कियों की जिंदगी, ठप्प पड़ा 20 खरब रुपये के तस्करी का कारोबार

Posted On: 20 Dec, 2016 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नोटबंदी ने लड़कियों की तस्करी के कारोबार पर भी जबरदस्त असर डाला है. नोटबंदी के कारण कई लोगों के धंधों पर असर पड़ा है. 20 खरब रुपये की ह्यूमन ट्रैफिकिंग इंडस्ट्री भी इससे अछूता नहीं है. सेक्स वर्क के लिए महिलाओं और लड़कियों को बेचने का कारोबार करने वाली इस इंडस्ट्री में राहत और बचाव का काम करने वाले वर्कर्स ने यह खुलासा किया है.


cover

एक पत्रिका के मुताबिक रेस्क्यू वर्कर्स का कहना है कि, ‘आम तौर पर नवंंबर में मानव तस्करी का ये काम पूरा होता है, जिसके बाद लड़कियों को देशभर के वेश्यालय, प्लेसमेंट एजेंसियों और बाल विवाह दलालों के पास भेज दिया जाता है. 8 नवम्बर से 500 और 1000 रुपये के नोटों की बन्दी की घोषणा के बाद नये नोटों की कमी की वजह से व्यापार मंदा हो गया है.


noteban

बच्चों के अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ से जुड़े राकेश सेंगर का कहना है- ‘ट्रैफिकिंग पूरी तरह से ठप है. आम तौर पर लड़कियां असम के गुवाहाटी से, ऩॉर्थ में झारखंड से और साउथ में चेन्नई, बेंगलुरु और हैदराबाद से लाई जाती हैं. पिछले एक महीने से एक लड़की की तस्करी नहीं हुई है. ऐसा इसलिए है क्योंकि वहां नगदी ही नहीं बची है. सभी ट्रांजेक्शन कैश में हो रहे हैं और मालिकों के पास बिचौलियों को देने के लिए पैसा ही नहीं है.’


trafficking-

Read: भारत से ही जन्मा था लिव-इन-रिलेशनशिप, 8 तरह के विवाहों में से माना जाता है एक…जानिए इस ग्रंथ में इसका उल्लेख


तस्करी के इस कारोबार में आम तौर पर एक लड़की की ‘कीमत’ 2.5 लाख रुपये होती है. इसमें ट्रांसपोर्टिंग पर खर्च से लेकर स्थानीय नेता, संगठन और पुलिस अधिकारी तक को दी जाने वाली रकम शामिल होती है. रेस्क्यू वर्कर्स का दावा है कि वास्तव में 2 लाख 30 हजार रुपये तस्कर रख लेता है और 20 हजार में लड़की को बेच देता है


human01


स्टडी में कहा गया कि नोटबंदी के बाद इस इंडस्ट्री में शामिल अलग-अलग लोगों के कामकाज पर असर पड़ा है, जिसमें तस्कर, वेश्यालय के मालिक, कानून प्रवर्तन अधिकारियों और न्यायपालिका के सदस्य शामिल हैं. बाल श्रम के खिलाफ ट्रेड यूनियन, शिक्षक और सिविल सोसायटी से जुड़े संगठन ग्लोबल मार्च का अध्ययन बताता है कि भारत में लड़कियों की तस्करी से जुड़ा सालाना कारोबार 18 लाख 60 हजार करोड़ का है…Next



Read More:

रोड पर बैठकर कान की सफाई एक अपराध है, जानें भारत के 9 अटपटे अपराध

आतंकी हमले की शिकार मलाला बनी करोड़पति, भरा 2 करोड़ रुपए का टैक्स

बिस्कुट के लालच में 8 साल का बच्चा बना सीरियल किलर, ये हैं  इतिहास के 6 सबसे बड़े हत्यारे

रोड पर बैठकर कान की सफाई एक अपराध है, जानें भारत के 9 अटपटे अपराध
आतंकी हमले की शिकार मलाला बनी करोड़पति, भरा 2 करोड़ रुपए का टैक्स
बिस्कुट के लालच में 8 साल का बच्चा बना सीरियल किलर, ये हैं  इतिहास के 6 सबसे बड़े हत्यारे


Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran