blogid : 1 postid : 1327017

महाभारत के युद्ध में जब दुर्योधन ने लहराई तीन अंगुलियां, श्रीकृष्ण ने बताया था रहस्य

Posted On: 27 Apr, 2017 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जीवन में जब कभी हम हारते हैं, तो अक्सर मन में विचार आता है कि आखिर हमसे क्या गलती हो गई कि हम जीत से दूर रह गए. ऐसे में हार पर मंथन शुरू हो जाता है. महाभारत में ऐसा ही एक प्रसंग है. कुरूक्षेत्र की रणभूमि पर मूर्च्छित पड़े दुर्योधन का. भीम के वार ने दुर्योधन को चारों-खाने चित्त कर दिया था. भूमि पर बेसुध पड़े दुर्योधन ने हवा में तीन उगलियां उठाई और श्रीकृष्ण की ओर देखा. श्रीकृष्ण को समझते हुए देर नहीं लगी. उन्हें दुर्योधन की स्थिति देखते ही पता चल गया कि उसके मन में क्या प्रश्न उठ रहा है.


cover


दुर्योधन के मन के 3 सवाल

भूमि पर गिरते ही दुर्योधन को पता चल गया कि वो पराजित हो चुका है और अब जीत का कोई विकल्प नहीं बचा है. दुर्योधन के मन में रह-रहकर 3 सवाल आ रहे थे.

1. गुरू द्रोण के बाद अश्वथात्मा को सेनापति बनाना चाहिए था. गलत रणनीतियों के कारण महाभारत के युद्ध में पराजय मिली है.

2. विदुर को युद्ध में भाग लेने के लिए प्रेरित करना चाहिए था जिससे कौरवों का पक्ष मजबूत होता.

3.  हस्तिनापुर के इर्द-गिर्द किला बनवाना चाहिए था.


duryodhana1


अगर इन तीन बातों पर विचार किया जाता तो महाभारत में कौरवों की हार नहीं होती.

इन सवालों का जवाब देते हुए श्रीकृष्ण ने कहा

किसी भी स्थिति में तुम्हारी हार होनी ही थी, क्योंकि तुमने अन्याय किया था.

यदि तुम हस्तिनापुर के पास किला बनवा देते, तो नकुल उसे अपने दिव्य घोड़े के साथ मिलकर तोड़ देता.

अश्वथात्मा को सेनापति बनाने से युधिष्ठिर को इतना क्रोध आता कि पूरी सेना एक बार में ही नष्ट हो जाती.

विदुर रणभूमि में अगर कौरव की तरफ से लड़ते तो मैं स्वयं पाडंवों की तरफ युद्ध करता…Next


Read More:

महाभारत की इस घटना में किया गया था अश्वत्थामा से छल, द्रोणाचार्य को भी सहना पड़ा था अन्याय

महाभारत युद्ध के बाद भीम को जलाकर भस्म कर देती ये स्त्री, ऐसे बच निकले

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा

महाभारत की इस घटना में किया गया था अश्वत्थामा से छल, द्रोणाचार्य को भी सहना पड़ा था अन्याय

महाभारत युद्ध के बाद भीम को जलाकर भस्म कर देती ये स्त्री, ऐसे बच निकले

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा


Tags:                         

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran