JagranJunction Blogs

Aapki Awaaz, Aapka Blog. Your Voice, Your Blog.

60,000 Posts

69194 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1 postid : 1333994

दुष्कर्म व् प्रकृति विरुद्ध अपराध-भारत रूस से आगे

Posted On: 8 Jun, 2017 Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

11  महीने पहले रूस ने महिलाओं को दुष्कर्म करने वाले को निजी प्रतिरक्षा में मारने की अनुमति दी और जिससे वहां यह आशा की गयी कि यह कानून वहां पुरुषों और लड़कों को भी निजी प्रतिरक्षा में उनके साथ ऐसा करने वालों को मृत्यु दंड देने की अनुमति देगा .-

”New Law in Russia Allows Women to Kill Rapist in Self-Defense: Hopefully the law will also recognize the rights of men and boys who are being raped or sexually assaulted to self defense too (naturalhealingmagazine.net)

submitted 11 months ago by DougDante”

    • जबकि भारत में पहले से ही इन अपराधों के लिए निजी प्रतिरक्षा में मृत्यु कारित करने का अधिकार दिया गया है .
      भारतीय दंड संहिता की धारा 100 कहती है -
      ”शरीर की प्राइवेट प्रतिरक्षा के अधिकार का विस्तार ,पूर्ववर्ती अंतिम धारा में वर्णित निबंधनों के अधीन रहते हुए ,हमलावर की स्वेच्छया मृत्यु कारित करने या कोई अन्य अपहानि कारित  करने तक है ,यदि वह अपराध ,जिसके कारण उस अधिकार के प्रयोग का अवसर आता है ,एतस्मिनपश्चात प्रगणित भाँतियों में से किसी भी भांति का है ,अर्थात -
      [और इस धारा की तीसरी व् चौथी उपधारा कहती है ]-
      *तीसरी-बलात्संग करने के आशय से हमला ,
      *चौथी-प्रकृति विरुद्ध काम तृष्णा की तृप्ति के आशय से किया गया हमला ;और इसके पीछे एक मुख्य वजह यह भी कही जा सकती है कि भारत में ये अपराध अन्य देशों के मुकाबले बहुतायत में है जिस कारण भारत को अपना मस्तिष्क इस अपराध के निवारण में ज्यादा ही लगाना पड़ता है .

        फिर भी यह तो मानना ही पड़ेगा कि विश्व की एक महाशक्ति भारत से कहीं न कहीं पीछे है और भारत अपने बुद्धि विवेक में उससे कहीं आगे ,तभी तो जिस क्षेत्र में कानून रूस ने अब 11 महीने पहले बनाया उस क्षेत्र में भारत ने बहुत पहले ही कानून बना लिया .इसलिए महाशक्ति भले ही रूस हो महाबुद्धि तो अपना भारत ही है .


  • शालिनी कौशिक

    [कानूनी ज्ञान ]



Tags:

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran