JagranJunction Blogs

Aapki Awaaz, Aapka Blog. Your Voice, Your Blog.

60,000 Posts

67707 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1 postid : 1340566

एक मनुष्य आखिर इतना लाचार क्यों हो जाता है...

Posted On: 16 Jul, 2017 Others,social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मनुष्य मानसिक रूप से अगर क्षीण होने लगता है, तो वह एक गलत कदम उठाता है और वह कदम होता है आत्महत्या का। क्या मनुष्य इतना कमजोर हो सकता है कि उसको आत्महत्या जैसा कदम उठाना पड़े। मगर आज के समय में यही सत्य है। लोग मानसिक रूप से इतने कमजोर होते जा रहे हैं कि वे आत्महत्या जैसा कदम उठा लेते हैं। ये लोग आत्महत्या करने से पहले कुछ भी नहीं सोचते और घटना को अंजाम दे देते हैं।

suicide

आखिर एक मनुष्य इतना लाचार क्यों हो जाता है कि उसको आत्महत्या जैसा कदम उठाना पड़े। देश में किसानों की माली हालत इतनी गड़बड़ हो गई है कि प्रत्येक दिन कोई न कोई किसान अपने प्राण त्याग रहा है। अगर देखा जाय तो किसी भी समस्या का हल प्राण देना कतई नहीं है। जिंदगी में उतार-चढ़ाव तो आते रहते हैं। हमको किसी भी समस्या के समाधान के लिए प्रयासरत रहना चाहिए। हर समस्या से मुकाबला करने की कोशिश करनी चाहिए। क्योंकि जब तक हम मानसिक रूप से मजबूत नहीं होंगे, तब तक आत्महत्या का विचार आता रहेगा। इसलिए अपने आप को इतना मजबूत रखना चाहिए कि किसी भी प्रकार की कोई समस्या आये तो हम उससे लड़ सकें।

मगर आज की हमारी युवा पीढ़ी इतनी कमजोर हो गयी है कि छोटी-छोटी बातों पर इस कदर टूट जाती है कि उनको किसी भी प्रकार का रास्ता दिखाई नहीं देता। वे आत्महत्या के लिए बाध्य हो जाते हैं। आज के समय में ट्रेनों के आगे कूदना, रेलवे पटरी पर लेट जाना, मेट्रो के पटरी पर कूदना, पंखे पर लटकना, ऐसे न जाने कितने रास्ते लोग मरने के लिए खोज लेते हैं।

मरने के पहले यह कभी नहीं सोचते कि जिस माता-पिता ने पालन-पोषण किया है, उनके ऊपर क्या बीतेगा। वे हमारे न रहने पर किस कदर जिंदगी का निर्वहन करेंगे। कैसे अपनी बुढ़ापे की जिंदगी को आगे ले जाएंगे। ऐसे बहुत से प्रश्न होते हैं, जो माता-पिता को परेशान करते है, लेकिन उनकी सन्तान कुछ भी सोचे बिना इतना बड़ा निर्णय ले लेती है, जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता। आज की युवा पीढ़ी बिना सोचे होश खो देती है और फिर मृत्यु की गोद में हमेशा के लिए सो जाती है। ये लोग बिना बुलावे के ही यमराज के दरबार में हाजिरी लगा देते हैं।

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran