JagranJunction Blogs

Aapki Awaaz, Aapka Blog. Your Voice, Your Blog.

60,001 Posts

59906 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1 postid : 1342304

कश्मीर में शान्ति बहाली ही शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी

Posted On: 25 Jul, 2017 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

kargil-embed_072516075330

26 जुलाई 2017, 18वां कारगिल विजय दिवस। वो विजय, जिसका मूल्य वीरों के रक्त से चुकाया गया। वो दिवस जिसमें देश के हर नागरिक की आंखें विजय की खुशी से अधिक हमारे सैनिकों की शहादत के लिए सम्मान में नम होती हैं। 1999 के बाद से भारतीय इतिहास में जुलाई का महीना हम भारतीयों के लिए कभी भी केवल एक महीना नहीं रहा और इस महीने की 26 तारीख कभी अकेली नहीं आई।

26 जुलाई अपने साथ हमेशा भावनाओं का सैलाब लेकर आती है। गर्व का भाव उस विजय पर जो हमारी सेनाओं ने हासिल की थी। श्रद्धा का भाव उन अमर शहीदों के लिए जिन्होंने तिरंगे की शान में हंसते-हंसते अपने प्राणों की आहुति दे दी। आक्रोश का भाव उस दुश्मन के लिए जो अनेकों समझौतों के बावजूद 1947 से आज तक तीन बार हमारी पीठ में छुरा घोंप चुका है।

क्रोध का भाव उस स्वार्थी राजनीति, सत्ता और सिस्टम के लिए जिसका खून अपने ही देश के जवान बेटों के शहीद होने के बावजूद नहीं खौलता कि इस समस्या का कोई ठोस हल नहीं निकाल सके। बेबसी का भाव उस अनेक अनुत्तरित प्रश्नों से मचलते ह्रदय के लिए कि क्यों आज तक हम अपनी सीमाओं और अपने सैनिकों की रक्षा करने में सक्षम नहीं हो पाए ? उस मां के सामने असहाय होने का भाव, जिसने अपने जवान बेटे को तिरंगे में देखकर भी आंसू रोक लिए, क्योंकि उसे अपने बेटे पर अभिमान था कि वह अमर हो गया। उस पिता के लिए निशब्दता और निर्वात का भाव जो अपने भीतर के खालीपन को लगातार देशाभिमान और गर्व से भरने की कोशिश करता है। उस पत्नी से क्षमा का भाव, जिसके घूंघट में छिपी आंसुओं से भीगी आंखों से आंख मिलाने की हिम्मत आज किसी भी वीर में नहीं। 26 जुलाई अपने साथ यादें लेकर आती है, टाइगर हिल, तोलोलिंग, पिम्पल कॉम्पलेक्स जैसी पहाड़ियों की। कानों में गूंजते हैं कैप्टन सौरभ कालिया, विक्रम बत्रा, मनोज पाण्डे, संजय कुमार जैसे नाम, जिनके बलिदान के आगे नतमस्तक है यह देश।

12 मई 1999 को एक बार फिर वो हुआ, जिसकी अपेक्षा नहीं थी। दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्रों में लड़ी गई थी वो जंग। 160 किमी के कारगिल क्षेत्र एलओसी पर चला था वो युद्ध। 30000 भारतीय सैनिकों ने दुश्मन से लोहा लिया। 527 सैनिक व सैन्य अधिकारी शहीद हुए, 1363 से अधिक घायल हुए। 18000 फीट ऊंची पहाड़ी पर 76 दिनों तक चलने वाला यह युद्ध भले ही 26 जुलाई 1999 को भारत की विजय की घोषणा के साथ समाप्त हो गया, लेकिन पूरा देश उन वीर सपूतों का ॠणी हो गया, जिनमें से अधिकतर 30 वर्ष के भी नहीं थे।
‘मैं या तो विजय के बाद भारत का तिरंगा लहरा कर आऊंगा या फिर उसी तिरंगे में लिपटा आऊंगा’ शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा के ये शब्द इस देश के हर युवा के लिए प्रेरणा स्रोत हैं। कारगिल का प्‍वॉइन्ट 4875 अब विक्रम बत्रा टॉप नाम से जाना जाता है, जो उनकी वीरता की कहानी कहता है। 76 दिनों के संघर्ष के बाद जो तिरंगा कारगिल की सबसे ऊंची चोटी पर फहराया गया था, वो ऐसे ही अनेक नामों की विजय गाथा है। स्वतंत्रता का जश्न वो पल लेकर आता है, जिसमें कुछ पाने की खुशी से अधिक बहुत कुछ खो देने से उपजे खालीपन का एहसास भी होता है, लेकिन इस विजय के 18 वर्षों बाद आज फिर कश्मीर सुलग रहा है।

आज भी कभी हमारे सैनिक सीमा रेखा पर, तो कभी कश्मीर की वादियों में दुश्मन की ज्यादतियों के शिकार हो रहे हैं। युद्ध में देश की आन-बान और शान के लिए वीरगति को प्राप्त होना एक सैनिक के लिए गर्व का विषय है। मगर बिना युद्ध के कभी सोते हुए सैनिकों के कैंप पर हमला, तो कभी आतंकवादियों से मुठभेड़ के दौरान अपने ही देशवासियों के हाथों पत्थरबाजी का शिकार होना कहां तक उचित है? अभी हाल ही के ताजा घटनाक्रम में जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित को शब-ए-कद्र के जुलूस के दौरान भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला। इससे पहले 10 मई 2017 को मात्र 23 वर्ष के आर्मी लेफ्टिनेन्ट उमर फैयाज़ की शोपियां में आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी, जब वे छुट्टियों में अपने घर गए थे। छह महीने पहले ही वे सेना में भर्ती हुए थे।
इस प्रकार की घटनाओं से पूरे देश में आक्रोश है। हमारे देश की सीमाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारे सैनिकों की है, जिसे वे बखूबी निभाते भी हैं, लेकिन हमारे सैनिकों की सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी सरकार की है। हमारी सरकारें चाहे केंद्र की हो या राज्य की, क्या वे अपनी जिम्मेदारी निभा रही हैं? अगर हां, तो हमारे सैनिक देश की सीमाओं के भीतर ही वीरगति को क्यों प्राप्त हो रहे हैं?
क्या सरकार की जिम्मेदारी खेद व्यक्त कर देने और पीड़ित परिवार को मुआवजा देने भर से समाप्त हो जाती है? कब तक बेकसूर लोगों की जान जाती रहेगी? समय आ गया है कि कश्मीर में चल रहे इस छद्म युद्ध का पटाक्षेप हो। वर्षों से सुलगते कश्मीर को अब एक स्थायी हल के द्वारा शांति की तलाश है। जिस दिन कश्मीर की वादियां फिर से केसर की खेती से लहलहाते हुए खेतों से खिलखिलाएंगी, जिस दिन कश्मीर के बच्चों के हाथों में पत्थर नहीं लैपटॉप होंगे और कश्मीर का युवा वहां के पर्यटन उद्योग की नींव मजबूत करने में अपना योगदान देकर स्वयं को देश की मुख्य धारा से जोड़ेगा, उस दिन कारगिल शहीदों को हमारे देश की ओर से सच्ची श्रद्धांजलि होगी।



Tags:         

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran