blogid : 1 postid : 1350797

इस शख्स ने ब्रिटेन में उस वक्त पहली भारतीय कंपनी खोली, जब भारत यहां अंग्रेजों का गुलाम था

Posted On: 4 Sep, 2017 Social Issues में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ईस्ट इंडिया कंपनी भारत में व्यापार करने आई और इसके बाद अंग्रेजों ने धीरे-धीरे पूरे भारत को गुलाम बना लिया. बचपन से लेकर अभी तक हमने ईस्ट इंडिया से जुड़े हुए कई किस्से पढ़े हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं जिस वक्त ईस्ट इंडिया कंपनी भारत में छाने की तैयारी कर रही थी, उस वक्त एक व्यक्ति ऐसा था जिसने ब्रिटेन में पहली भारतीय कंपनी की शुरूआत की.


dada bhai

लंदन की कामा एंड कंपनी में पार्टनर बन गए. वहां कुछ दिन काम किया. फिर कंपनी की मजबूरियों और गड़बड़ियों के चलते इस्तीफा दे दिया. फिर खुद की कॉटन ट्रेडिंग कंपनी बनाई. और लोकल राजनीति में शामिल हो गए. अब बात कर रहे हैं ब्रिटिश संसद में पहले भारतीय सांसद दादाभाई नौरोजी की. जिन्होंने अंग्रेजी संसद में रहते हुए अंग्रेजों की नाक में दम कर रखा था.


indian market


दादाभाई की ड्रेन थ्योरी

शुरूआत में जब अंग्रेज आए थे तो उन्होंने भारतीय व्यापारियों को बहला-फुसलाकर उनका माल खरीदना शुरू किया था. वो भारतीयों को यकीन दिला चुके थे कि वो भारतीयों के शुभचिंतक हैं. दादाभाई नौरोजी ने अंग्रेजों की पोल-पट्टी खोल के रख दी. उन्होंने साफ कर दिया कि बस भारत से कच्चा माल ले जाया जा रहा है और वहां की फैक्ट्री में बना के इंडिया में ऊंचे दाम पर बेच रहे हैं. इसी वजह से वो भारत में कोई फैक्ट्री नहीं लगने दे रहे हैं …Next






Read More:

किसी को ब्रेसलेट से है प्यार तो कोई गुरुवार को नहीं देता पैसे, कितने अंधविश्वासी हैं आपके फेवरेट स्टार्स!

कभी मिथुन के कहने पर श्रीदेवी ने बोनी कपूर को बांधी थी राखी! फिर रचा ली शादी

इस एक रात ने गुलज़ार-राखी के रिश्ते को हमेशा के लिए खत्म कर दिया था!



Tags:                 

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran