JagranJunction Blogs

Aapki Awaaz, Aapka Blog. Your Voice, Your Blog.

58,473 Posts

57384 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1 postid : 1358181

आदरणीय नीतीश जी, आपको बिहार के लोग कभी माफ नहीं करेंगे

Posted On: 4 Oct, 2017 Others,Politics में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आदरणीय नीतीश जी! दशहरा और मुहर्रम के दौरान हालात अनेक जिलों में बुरे हैं. जमुई में भारी तनाव है, तो सिवान में तोड़फोड़ और हिंसा हुई. नवादा तो रामनवमी से ही तप रहा है, रही बात आरा और ठाकुरगंज की तो वहां भी स्थिति ठीक नहीं. बिहार के कई ज़िले अभी साम्प्रदायिक हिंसा की चपेट में हैं. बेगूसराय, कटिहार, जमुई इत्यादि जिलों की इन्टरनेट सेवाएं बन्द हैं.


nitish kumar


यह मोहर्रम और दशहरा एक साथ क्या आया, कुछ इंसानों के अंदर भेड़िये जाग गए. अरवल, सीतामढ़ी, सीवान, आरा, औरंगाबाद सहित बिहार के दो दर्जन इलाकों में हिन्दू-मुस्लिमों ने आपस में जमकर मारपीट, आगजनी और लूटपाट की घटना को अंजाम दिया है। बिहार की हालत ऐसी हो जायेगी कि दो समुदायों के बीच दुश्मनी की ऐसी लकीर खींच दी जायेगी, यह चिंता की बात है.


इन तमाम जगहों पर जो हालात हैं, उसमें दोनों समुदायों के कट्टरपंथियों की भले जो भूमिका रही हो, लेकिन उससे भी शर्मनाक यह है कि आपके प्रशासनिक अमले के आला ने हर जगह सरासर नाकारेपन का सुबूत दिया है. हालांकि जहां कहीं घटना घटी है, उसके लिए प्रशासन का गैर जिम्मेदाराना रवैया जिम्मेदार है। ज़बरदस्त तनाव है, लोग मस्जिदों में घुस रहे हैं, नारे लगा रहे हैं. माहौल पूर्ण रूप से बिगाड़ने प्रयास किया जा रहा है.


मस्जिद से भीड़ को भगाया गया, तो भीड़ ने इलाके की दुकानों को लूटना शुरू कर दिया और हर बार की तरह इस बार भी पुलिस मूकदर्शकों की तरह खड़ी रही. इलाके में आम लोगों में डर का माहौल है. लोग रातों को सो नहीं रहें हैं, सिर्फ़ इस डर से की कहीं कोई भीड़ आकर उनके परिवार पर हमला ना कर दे. कटिहार और आसपास का इलाका आपसी भाईचारे के लिए विख्यात रहा है. हिंदू-मुस्लिम एकता यहां हमेशा कायम रही है. पर इस बार समाज में जहरीली मानसिकता फैलाने वाले नेताओं ने कामयाबी हासिल कर ली और समाज को बांटने की कोशिश की.


कुल मिलाकर इन जगहों पर दर्जनों घरों-दुकानों को लूटा गया या जला डाला गया. ऐसी स्थिति क्यों आने दी गयी? क्या यह आपके प्रशासन की विफलता नहीं है? अगर विफलता है तो प्रशासनिक अधिकारियों की पहचान होनी चाहिए और उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. कम से कम डीएम-एसपी को तो वहां से तत्काल हटाया जाना चाहिए.


आदरणीय नीतीश जी आपकी सरकार का दावा रहा है कि कानून का राज ही आपकी टीआरपी है, लेकिन यह कैसा कानून का राज है. सड़कों पर तांडव मचा रहे हैं या जो डरे-सहमे हैं, वह चार दिनों से घरों में दुबके हैं. आग्रह है कि समाज में बढ़ते विभेद और नफरत फैलाने वालों पर बिना सहानुभूति के कार्रवाई हो और अमन बहाली में कोई मुर्रवत न बरती जाये. मुस्लिम नेताओं ने भी चुप्पी साधी हुई है। सही भी, बेचारों के पास काम भी तो बहोत हैं. आप चाहें तो नीतीश बाबू ज़िंदाबाद का नारा लगा सकते हैं, जो 2019 की तैयारी में हैं. आदरणीय नीतीश जी, आपको बिहार के लोग कभी माफ़ नहीं करेंगे।



Tags:

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran