blogid : 1 postid : 1365130

जम्‍मू–कश्‍मीर समेत 8 राज्‍यों में हिंदुओं को अल्‍पसंख्‍यक घोषित करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला

Posted On: 2 Nov, 2017 Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हिंदू-मुस्लिम और अल्‍पसंख्‍यक-बहुसंख्‍यक के मामले देश में उठते रहते हैं। मगर इस बार हिंदू और मुस्लिम आबादी को लेकर नई बहस छिड़ गई है। देश के आठ राज्‍यों में हिंदुओं को अल्‍पसंख्‍यक का दर्जा देने की मांग की गई है। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर हुई है, जिसमें हिंदुओं की आबादी का तर्क देते हुए इन राज्‍यों में उन्‍हें अल्पसंख्यक का दर्जा दिलाने का आग्रह किया गया है। हालांकि, कुछ लोगों को यह अजीब लग सकता है, लेकिन यह बात सच है। आइये आपको बताते हैं क्‍या है पूरा मामला।


supreme court


‘हिंदुआें को मिले अल्‍पसंख्‍यकों वाले अधिकार’


parliament


भाजपा नेता और वकील अश्विनी उपाध्याय की ओर से मंगलवार को दायर की गई याचिका में जम्मू-कश्मीर समेत आठ राज्यों में हिंदुओं के अल्पसंख्यक होने की बात कही गई है। साथ ही इन राज्‍यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यकों वाले अधिकार देने की मांग की गई है। याचिकाकर्ता के अनुसार जम्मू-कश्मीर, लक्षद्वीप, नागालैंड, मिजोरम, मेघालय, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश और पंजाब में हिंदू अल्पसंख्यक हैं। याचिका में 1993 में केंद्र सरकार की ओर से जारी उस नोटिफिकेशन को भी असंवैधानिक घोषित करने की मांग की गई है, जिसमें मुस्लिम, ईसाई, सिख, बौद्ध और पारसी को अल्पसंख्यक घोषित किया गया था। याचिका में कहा गया है कि किसी भी समुदाय को अल्पसंख्यक का दर्जा सिर्फ उनकी जनसंख्या के आधार पर ही मिलना चाहिए। उपाध्‍याय ने सुप्रीम कोर्ट में दायर अपनी याचिका में कानून मंत्रालय को प्रतिवादी बनाया है।


2011 जनगणना को बनाया आधार


India Population


याचिकाकर्ता का तर्क है कि 2011 की जनगणना के मुताबिक, लक्षद्वीप में हिंदू 2.5 परसेंट हैं, जबकि अल्पसंख्यक घोषित मुस्लिमों की आबादी 96.58 परसेंट है। वहीं, जम्मू-कश्मीर में हिंदुओं की आबादी 28.44 परसेंट है, जबकि मुस्लिम 68.31 परसेंट हैं। इसी तरह मिजोरम में हिंदू 2.7 परसेंट हैं, जबकि अल्पसंख्यक दर्जा प्राप्‍त ईसाई 87 परसेंट से भी ज्यादा हैं। नागालैंड में हिंदू 8.75 परसेंट और ईसाई करीब 88 परसेंट हैं। वहीं, मेघालय में हिंदू 11.5 परसेंट और ईसाई करीब 74.5 परसेंट हैं। अरुणाचल और मणिपुर में भी अल्पसंख्यक ईसाइयों की आबादी हिंदुओं से ज्यादा है। आबादी के हिसाब से पंजाब में भी हिंदू कम हैं। यहां हिंदू 38.4 परसेंट हैं, जबकि सिख जनसंख्‍या 57.69 परसेंट है। उपाध्‍याय ने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई है कि वह केंद्र सरकार को आदेश दे कि इन राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक घोषित करें। याचिका में 19 अगस्त की एक रिपोर्ट ‘हिंदू ह्यूमन राइट्स रिपोर्ट’ का हवाला दिया गया है।


Read More:

देश के चौथे सबसे महंगे घर के मालिक हैं शाहरुख, तीन बार की है गौरी से ‘शादी’
मैच खेलते-खेलते दिल दे बैठे थे आशीष नेहरा, महज 7 दिनों में कर ली शादी
अपनी मेहनत से किस्मत पलट देते हैं इन 5 राशियों के लोग, जल्दी नहीं मानते हार



Tags:                                   

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran