JagranJunction Blogs

Aapki Awaaz, Aapka Blog. Your Voice, Your Blog.

58,472 Posts

57384 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1 postid : 1370787

अपनी लगाई आग में झुलसता पाकिस्तान

Posted On: 27 Nov, 2017 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

mumbai_attack_s_650_11261501215126/11/ 2008 में आतंकी हमला, टेलीवीजन के सामने बैठे लोग देख रहे थे आतंकियों ने बंबई शहर के प्रमुख स्थानों को अपने हिंसक पंजों में जकड़ लिया था |वह समुद्र के रास्ते मुम्बई में घुसे और दो गुटों में बट गये आतंकियों का निशाना कोलाबा स्थित लियोपोल्ड कैफे हाउस  ,नरीमन हाउस यहाँ अधिकतर यहूदी परिवार रहते थे ,छत्रपति शिवाजी टर्मिनल ,होटल ताज एवं होटल ओबेराय प्रमुख थे आतंकी कामा अस्पताल में मरीजों और अस्पताल के स्टाफ को भी अपना निशाना बनाना चाहते थे लेकिन समय रहते मरीजों के वार्ड को पहले ही लाक कर दिया गया था |यह भीड़ वाले इलाके और कुछ सम्पन्न लोगों के आने वाले स्थान थे होटलों में विदेशी भी ठहरे थे | उस हमले की टीस वर्षों बाद भी बाकी है विश्व के सबसे बड़े प्रजातंत्र पर हमला था , बेचारगी में फंसे हुए लोगों पर आतंकियों ने अधाधुंध गोलियों के साथ हथगोले भी मारे| हैरत की बात यह थी टीवी चैनलों के माध्यम से कार्यवाही और बचाव के उपायों का सीधा प्रसारण हो रहा था जिसे बाद में रोका गया भारत ही नहीं पाकिस्तान के आतंकी सरगना हमले के संचालक भी देख रहे थे वह आतंकियों के सम्पर्क में थे |देश ने आठ पुलिस अफसरों को शहादत के लिए जाते और शहीद होते देखा ऐसा लग रहा था आतंकी क्या नहीं कर सकते ?मुठभेड़ 29 नवम्बर तक चली नौं आतंकी मारे गये लेकिन जान पर खेल कर एक आतंकी कसाब ज़िंदा पकड़ लिया गया जिसे बाद में फांसी पर चढाया गया |

आतंकी हमले की याद एक बार फिर ताजा हो गयी ईजिप्त के सिनाई प्रांत की मस्जिद पर आतंकी हमला यह सूफी विचारकों की मस्जिद है जिसमें अब तक 305 लोग मारे गये गम्भीर रूप से घायलों की संख्या काफी है आतंकियों द्वारा नमाज पढ़ने गये नमाजियों पर हमला किया गया जिन्होंने बाहर निकल भागने की कोशिश की गयी उन पर गोलियां बरसाई |कैसा जिहाद है? आतंकवाद ने विश्व को इतना पास ला दिया है कहीं भी होने वाली आतंकी घटना दहला देती है आतंकवाद का नंगा रूप इस्लामिक स्टेट का कंसेप्ट कई देशों में आतंकी हमलों को अंजाम दे रहा है विश्व का कोई देश सुरक्षित नहीं है|

26/11 का आतंकी हमला ,इसका मास्टर माईंड जमात-उद-दावा का सरगना  हाफिज सईद था उसके खिलाफ कई सबूत भारत सरकार ने दिये पाकिस्तान को दिए |इस पर अमेरिका ने एक करोड़ का इनाम घोषित किया है उसी के दबाब में हाफिज सईद को हिरासत में लिया गया था लेकिन न्यायालय द्वारा सबूतों के अभाव में 26/11 से ठीक पहले आजाद कर दिया गया या यूँ कहिये सरकार ने सबूत पेश ही नहीं किये |उसने अपने समर्थकों के साथ अपनी रिहाई पर जश्न ही नहीं मनाया कश्मीर को लेकर खुले आम जहर उगला और हम बेबस और लाचार हैं |

भारत की विदेश नीति में पंचशील का सिद्धांत हावी रहता है| पाकिस्तान से मधुर सम्बन्ध बनाने की चाह में कीमत भी देते रहे हैं |जल बटवारा विश्व में सबसे उदार जल बटवारा था ,बड़े भाई की तरफ से छोटे भाई के लिए दरियादिली, क्या पड़ोसी ने कभी समझा  जो मिलता है उसे अपना हक समझता रहा है |पाकिस्तान में सरकारें आयीं गयीं लेकिन भारत के विरुद्ध सबकी नीति एक सी रही  जिया –उल –हक के बाद छद्म युद्ध की शुरुआत हुई  अफगानिस्तान से लड़ने के लिए अमेरिका द्वारा दिए आधुनिक हथियारों और प्रशिक्षित खूंखार आतंकियों को कश्मीर से सीमा पार कराया जाता है | पीओके में अनेक आतंकवादी कैंप जेहादी तैयार करते हैं उन्हें भारत के खिलाफ जहरीला बनाया जाता है यही आजकल नौजवानों का प्रमुख रोजगार और भारत के खिलाफ जेहाद का नारा है जाओ दीन के नाम पर  मार काट मचाओ यही जन्नत जाने का सीधा रास्ता है अर्थात मुआवजे में जन्नत मिलेगी | पाकिस्तानी नीति विशेषज्ञ और सैन्य अधिकारी खुश हैं छद्म युद्ध में उलझा कर उन्होंने भारत की तरक्की को कई वर्ष पीछे धकेल दिया लेकिन अब शान्ति पकिस्तान में भी नहीं है आतंकवादी संगठन  सरकार को अपने हिसाब से चलाना चाहते हैं जनता द्वारा चुनी गयी सरकारें सेना और आतंकवादी आकाओं के प्रभाव में काम करती है |

आतंकी सरगना हाफिज सईद राजनीतिक दल बनाकर चुनाव लड़ने और सत्ता पर काबिज होने की कोशिश कर रहा हैं। इस्लामिक स्टेट ने खुरासान का सपना देखा था हाफिज सईद उसमें जीता है| अखंड भारत के दो टुकड़े हुए दोनों  देश साथ-साथ  आजाद हुए थे। हम दो मोर्चों पर लड़ रहे हैं , ‘आतंकवाद’ के खिलाफ लड़ाई’ कश्मीर में ढुलमुल नीति के स्थान पर सख्त नीति अपनाई जा रही है कई आतंकवादी मारे गये| आतंक का रास्ता अपनाने वाले किशोरों को मुख्यधारा में लाने के लिए माता पिता की अपील पर घर वापसी हो रही है यही नहीं अलगाववादियों से पैसा लेकर सुरक्षा बलों पर पत्थर मारने वालों पर चलने वाले केस हटाने का भी प्रस्ताव है| अलगाववादियों को पाकिस्तान द्वारा दी जाने वाली फंडिंग पर भी नकेल कसी गयी , लेकिन ‘देश का विकास’ जारी रहा । भारत ने विश्व में अपनी पहचान बनाई, कूटनीतिक उपायों द्वारा पाकिस्तान को घेर कर अलग थलग किया है|भारत सरकार का प्रयत्न है विश्व समुदाय पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित  करे ,इसमें समय लगता है | मोदी जी ने बलूचिस्तान में बलूचों पर होने वाले जुल्मों का प्रश्न उठाया हम पाकिस्तान को बदनाम कर सकते हैं लेकिन बार्डर न मिलने से बंगला देश जैसी कार्यवाही करना कठिन है |अमेरिका कितना भी आतंकवाद का विरोध करे लेकिन पाकिस्तान को ज़िंदा रखेगा हाँ भारत के प्रति दोस्ती का दम भरते रहते हैं |

आज पाकिस्तान स्वयं संकट में है तहरीके –ए- लब्बैक एवं अन्य धार्मिक संगठनों ने इस्लामाबाद को घेर लिया है वे कानून मंत्री के खिलाफ प्रदर्शन कर पहले उन्हें हटाने की मांग कर रहे हैं अब पूरी सरकार का इस्तीफा मांग रहे हैं कारण भी ऐसा नहीं है जिस पर इतना हंगामा किया जाये | कानून मंत्री द्वारा निर्वाचन विधेयक में अल्लाह के नाम पर जनता द्वारा चुने प्रतिनिधियों द्वारा शपथ लेने वाले कानून में बदलाव किया था जबकि दो दिन बाद ही भूल कह  कर कानून को पूर्ववत कर दिया गया| कानून मंत्री ने माफ़ी भी मांगी लेकिन आन्दोलन कारी मानने को तैयार नहीं हैं सेना ने आन्दोलन कारियों पर सरकार को नरमी बरतने के लिए कहा | उन्हें नियंत्रित करना पुलिस और रेंजरों के बस की बात नहीं थी अत :हाईकोर्ट के आदेश पर आन्दोलन कारियों का घेरा उठवाने  के लिए सेना की 111 ब्रिगेड को बुलाया गया है मीडिया पर रोक लगा दी जिससे खबरें बाहर न जा सकें लेकिन हिंसक प्रदर्शन में पुलिस समेत कई लोग घायल हुए कहते हैं पांच लोगों की मृत्यू हुई है आन्दोलन धीरे-धीरे उग्र रूप धारण कर लाहौर कराची पेशावर और रावलपिंडी सहित अन्य शहरों में भी फैल रहा है| आन्दोलन में बूढ़े और किशोर भी शामिल हैं |

पाकिस्तान के गृह मंत्री ने अपने स्टेटमेंट में कहा इस्लामाबाद को घेरने और आन्दोलन करने से पहले प्रदर्शन कारियों के नेताओं ने भारत से सम्पर्क किया था |सोचा होगा देश वासियों और विदेशी मीडिया को सफाई देने के बजाय भारत की तरफ विद्रोह का रुख मोड़ दिया जाये | इसे पाकिस्तानी सेना की तख्ता पलट की कोशिश भी मान रहे हैं |पाकिस्तान में सेना द्वारा कई बार तख्ता पलट की कार्यवाहियां हुई हैं सेना कब्जा करना चाहती है लेकिन पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है सेना द्वारा कब्जा करने के बाद अमेरिकन ऐड बिलकुल बंद हो जायेगी समय बताएगा क्या होगा लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है पाकिस्तान में कट्टरवादी सोच बढ़ती जा रही है इस्लामीकरण अधिक दूर नहीं है | शठ के साथ उसी जैसा व्यवहार भारत ने नहीं किया लेकिन अपनी लगाई आग में पाकिस्तान झुलस रहा है |

ISLAMABAD

Rate this Article:

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5 (0 votes, average: 0.00 out of 5, rated)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran