Vo Subah Kabhi To Ayegi.....B.D. Khambata

Samaj, Rajniti aur Desh ko sahi disha dene ke liye ek prayas

16 Posts

7 comments

Khambata


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by: Rss Feed

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

में आपका बहुत सम्मान करता हूँ और यह सम्मान और बढ जायेगा यदि आप मेरे मन में उठ रहे इस सवाल का समाधान कर दें की २१ मार्च २०१३ को ११ बजे आपने भ्रष्ट दीपांकर के साथ बंद कमरे में बैठक क्यों की जबकि उसके साथ वह व्यक्ति था जो नोटों के भरोसे आम आदमी को खरीदने का दम भरता रहता हो, जबकि उसी दिन १२ बजे कार्यकर्ताओ की वहां बैठक थी जिसमे सबके सामने भी आप उनसे बात कर सकते थे ? क्या आपने आन्तरिक लोकपाल गठित करने बाबद मेरा पत्र अरविन्दजी तक पहुँचाया था ? आप पार्टी के छोटे कार्यकर्ताओ से बात करने से क्यों कतराते रहते हैं जबकि ये ही लोग किसी भी दल को चुनाव में जितने में अहम् रोल अदा करते हैं ? आदरणीय, उम्मीद करता हूँ पार्टी में आ रही गंदगी को दूर करने हेतु तुरंत आंतरिक लोकपाल का गठन करेंगे. ऐसा न होने पर मान लूँगा की हमारी पार्टी भी दूसरों के समान हो गई है. तब एक आम आदमी क्या कर सकता है ? तब में पार्टी के ह्रदय को जगाने के लिए आमरण अनशन पर तो बैठ ही सकता हूँ ! इस हमाम में जो आता है नंगा होता चला जाता है !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat




latest from jagran