हिन्दुस्तान

भ्रष्टाचार भारतीयता को निगल रहा है , हिन्दू एक जीवन पद्धति है जिसके अंत से प्रकृति का विनाश निश्चित है /

77 Posts

72 comments

राजेश कुमार वर्मा


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by: Rss Feed

महाठग

Posted On: 30 Aug, 2017  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

शिया इस्लाम

Posted On: 11 Apr, 2017  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

न्यूज़ बर्थ में

0 Comment

आलम का जलूस

Posted On: 17 Oct, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Religious में

0 Comment

बीजेपी की बड़ी जीत

Posted On: 20 May, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

Page 1 of 612345»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: राजेश कुमार वर्मा राजेश कुमार वर्मा

आदरणीय वर्मा जी आपने साधू और गुरु की अच्छी परिभाषा की है कोई भी ज्ञानी व्यति गुरु हो सकता है लाल नहीं गेरुए वस्त्र पहने वाले व्यक्ति को आम भाषा में साधू ही कहा जाता है यहाँ तक की भीख माँगने वाले भी गेरुए वस्त्र पहन कर भीख मांगते है ? लेकिन जहाँ तक बाबा राम देव की व्याख्या आपने की है वह आपके हिसाब से सही हो सकती है परन्तु स्वामी राम देव स्वयं ही कहते है की वह सन्यासी है और उन्होंने ने संन्यास ग्रहण किया है इस लिए कृपया यह बताने का कष्ट करे की एक सन्यासी और एक साधू और गेरुए वस्त्र पहनने वाले में कितना अंतर है ? आपकी जानकारी की लिए इतना ही काफी है की बाबा राम देव की ट्रस्ट ने स्काट्लेंड में टापू खरीदा है और बाबा जिस निजी हवाई जहाज से प्रतिदिन हजारों किलोमीटर की यात्रा करते है क्या वह बिना पैसे के संभव है - खर्च कहाँ से आता है ? हाँ इसमें कोई शक नहीं की बाबा एक अच्छी बात के लिए लड़ाई लड़ रहे है ?

के द्वारा:

वर्माजी राम देव भारत के नागरिक है । योग जानते हैं तो योगी नही बन जाते, लाल कलर के कपडे पहनते हैं तो साधु नही बन जाते । वो एक अच्छे नागरिक है ईतना काफी है । उन पर आरोप लगाने वाले सब उन के विरोधी है । सरकार ने भी आरोप लगाया था । खूद सरकार की पोल खूल गई । आप की सरकार ईतनी निक्कमी है की रामदेव जैसे आम आदमी घपला कर के काला धन ईक्कट्ठा कर ले । कहां ध्यान है, कैसे सरकार चलाते हो । राम देव जब आपका विरोधी है तो अब तक जेलमें होना चाहिए । ऐसे सवाल सरकार की ही पोल खोल देते हैं । लेकिन हम देखते हैं । रामदेव आज आजाद घुम रहे हैं । मतलब साफ है । उन के पास छुपाने का कुछ भी नही है । और धंधा कर के कमाना सब नागरिक का अधिकार है । रामदेवने भारत का नाम ही किया है, बिलकुल सही बात है आपकी ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

के द्वारा: R.K.Verma R.K.Verma

के द्वारा: rktelangba rktelangba




latest from jagran