Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

sach ka aaina

अपने किरदार को जब भी जिया मैंने, तो जहर तोहमतों का पिया मैंने, और भी तार-तार हो गया वजूद मेरा, जब भी चाक गिरेबां सिया मैंने...

197 Posts

913 comments

sunita dohare Management Editor


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by: Rss Feed

तपकर गमों की आग में कुंदन बनी हूँ मैं…..

Posted On: 19 May, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

2 Comments

पति बेचारा कवच का मारा “एक आइना”

Posted On: 14 May, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

“माँ” परमात्मा की स्वयं एक गवाही है…

Posted On: 9 May, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

2 Comments

कब तक छलकेंगे कश्मीर के आंसू ?

Posted On: 29 Apr, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum में

2 Comments

आखिर मैं कब तक चुप रहूंगी….

Posted On: 26 Apr, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum में

10 Comments

देश के इस सूरज “लाल” की भूमिका को कोई नकार नहीं सकता

Posted On: 13 Apr, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

5 Comments

अपने दायित्वो को समझिये …..

Posted On: 30 Mar, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

3 Comments

अरे ओ बुधवा “तोहे लड़की पैदा भई है”

Posted On: 25 Mar, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

2 Comments

यूँ तराशी उसने युवराज की शख्शियत

Posted On: 22 Mar, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Politics में

6 Comments

ई-कचरे के दुष्परिणाम से आवाम बेखबर……

Posted On: 26 Feb, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum social issues में

0 Comment

प्रदूषण एक प्रकार का अत्यंत धीमा जहर है l

Posted On: 25 Feb, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

2 Comments

मेरे बेबाक मन की सोच, “जागरण जंक्शन”

Posted On: 16 Feb, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

6 Comments

Salient Feature of the Budget 2016-17

Posted On: 13 Feb, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

विकास के मुद्दे धरे रह गये लफ्फाजी और गाली मे…

Posted On: 11 Jan, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

18 Comments

उत्तर प्रदेश आरटीआई एक्ट की मूल मंशा…..

Posted On: 9 Jan, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

तिलक और कलंक दोनों ही माथे पर लगते है

Posted On: 5 Jan, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

6 Comments

आखिर नरपिशाचों के पैशाचिक कृत्य पर रिहाई क्यूँ ?

Posted On: 20 Dec, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

8 Comments

माना कि मैं अमीर की औलाद नही

Posted On: 11 Oct, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

आवाम फिर भी खामोश है क्यूँ ?

Posted On: 23 Sep, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

4 Comments

एक लाख 75 हजार शिक्षामित्र गहरे सदमे में….

Posted On: 14 Sep, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Career social issues में

2 Comments

गलती नही, उसने गुनाह किया था.

Posted On: 30 Jul, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

कंप्यूटर स्क्रीन पर उभरती आकृति…

Posted On: 23 Jul, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others कविता में

0 Comment

कलंक है सभ्य समाज के लिए अंधविश्वास

Posted On: 15 Jul, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

दलित दासता का बेहद शर्मनाक रूप

Posted On: 11 Jul, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

तेरी नफरत मे वो दम नही

Posted On: 6 Jul, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

पत्रकारों की लाशों पर लिखा जा रहा यूपी का इतिहास

Posted On: 23 Jun, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

नारी पांव की जूती नही……

Posted On: 28 May, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

दलितों के दहकते दस्तावेज…..

Posted On: 25 May, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

3 Comments

नारी हृदय की अंतहीन सीमारेखा

Posted On: 21 May, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

21 Comments

अतीत का ये पन्ना इतना बैचैन क्यूँ ?

Posted On: 10 May, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

पुरुषवादी मानसिकता महिलाओं के लिए घातक …..

Posted On: 1 May, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

सरकार की नाकामी और किसानों की दुर्दशा…

Posted On: 24 Apr, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

गिलौरी दर्द की नमकीन हो या मीठी …

Posted On: 22 Apr, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

दुर्व्यवहार की शिकार होती दलित महिलाएं..

Posted On: 17 Mar, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

मेरे हिस्से की प्रीत (महकती रचनाएं)

Posted On: 14 Jan, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

18 Comments

तेरे नैना बड़े कातिल मार ही डालेंगें…

Posted On: 22 Dec, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

8 Comments

समाजवादी पार्टी के पाले साँप अब बड़े हो गये

Posted On: 14 Dec, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

“आयना पाहुजा” एक बहादुर रिपोर्टर बनिये….

Posted On: 2 Dec, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

मेरी नजर….

Posted On: 12 Nov, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

Jan Dhan Yojna – An effective financial inclusion scheme

Posted On: 10 Sep, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

जिस सेना को पानी पी-पी कर कोसा करते थे…

Posted On: 9 Sep, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

10 Comments

please listen, Mr. Modi ji ……

Posted On: 5 Sep, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

मृगतृष्णा सी छलती घूमे, ये कैसी कस्तूरी है ?

Posted On: 26 Aug, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

18 Comments

अब मुहब्बत भी हंसने लगी है …

Posted On: 16 Jul, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

8 Comments

भ्रूण रूप में आई कन्या, जब शाप इन्हें दे जायेगी….

Posted On: 6 Jul, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

12 Comments

क्योंकि है नारी ही नारी पर फिर से भारी…..

Posted On: 27 Jun, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

मोदी क्या आवाम की इन उम्मीदों पर खरे उतरेंगे ?

Posted On: 10 Jun, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

10 Comments

मानव बनके जालिम ने, दानव की शक्ल चुरा ली

Posted On: 13 May, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

एक और तैयार हुआ कमाई का नया फॉर्मूला…..

Posted On: 7 May, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

अमृता राय ने आखिर दिग्विजय सिंह में क्या देखा ????

Posted On: 30 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

26 Comments

क्या आम आदमी होना अभिशाप है ?

Posted On: 23 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

आज अपने साए से लिपट के कोई रोया होगा…

Posted On: 12 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

12 Comments

ओ सांवरे ! मुझे तेरे ही रंग में रंगना है …

Posted On: 12 Mar, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

14 Comments

माँ तेरे द्वार एक दुखियारी आई है….

Posted On: 4 Mar, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

बन संवर के जब तुम आये, हजार आँखें जवां हुई थीं

Posted On: 27 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

अमरबेल का दर्द सुहाना ……..

Posted On: 13 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

(दूसरी किश्त) तेरे वादे पे करके भरोसा CONTEST…

Posted On: 7 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

तेरे वादे पे करके भरोसा {पहली किश्त} (contest)

Posted On: 30 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

मुझे इश्क है तुम्हीं से (contest)

Posted On: 26 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

लेकिन मैं कुर्बानी दूँ तो क्यों ? ( Contest )

Posted On: 19 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

सात रूपों में , एक सौगात तुम्हारे नाम…….

Posted On: 9 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

3 Comments

“आप” का राजराग अनुराग कहीं “आप” को ना ले डूबे……

Posted On: 19 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

10 Comments

18 से कम उम्र के बच्चो के लिए फेसबुक बैन कर देनी चाहिए…..

Posted On: 13 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.80 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

क्या आप क्रोध के पूरे खानदान को जानते है ???

Posted On: 9 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

लो भाई फिर हो गये साईकिल पर सवार…

Posted On: 6 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

तेरी याद के वो सुर्ख गुलाब……

Posted On: 30 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

14 Comments

इस जैसी न जाने कितनी हैं राजनीति की अवैध संताने …

Posted On: 28 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

3 Comments

समाजवादी पार्टी के मुखिया का फरमान ……

Posted On: 1 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

आम आदमी को प्याज देवता के दर्शन आखिर हों तो कैसे हों ?

Posted On: 28 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

मेरी पांच रचनाएं-(क्यों रूह को फ़नां किया) …..

Posted On: 9 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

18 Comments

कहते हैं स्त्री तो माँ बहन और भार्या होती है…..

Posted On: 28 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

सुनी के दोहे :–

Posted On: 24 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

इतनी बेरहम दुनियां में कैसे बनूँ सहारा…..

Posted On: 18 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

‘रेयरेस्ट ऑफ रेयर’ श्रेणी का फैसला….

Posted On: 13 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

5 Comments

2014 में होने वाली संभावित हार की खीज….

Posted On: 4 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

एक सत्य ऐसा भी जो विचारणीय है…………

Posted On: 8 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

ये कैसा न्याय ? ये कैसी सजा ?

Posted On: 3 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

12 Comments

चढ़ गई दुर्गा सियासत की भेंट ……..

Posted On: 1 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

वो तेरी सुरमई आखियाँ :-

Posted On: 24 Jul, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन मुद्दे उछले या कि उछले जूते - ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

के द्वारा: डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विस्फोटक स्थिति के बीच हलकी-फुल्की ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

के द्वारा: डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

के द्वारा: Govind Bharatvanshi Govind Bharatvanshi

एकदम सटीक चित्रण किया है आपने जैसे कि "एक ओर संसार को धर्म नामक कीड़ा खाए जा रहा है, दूसरी ओर से राजनीति की बर्बरता अवाम को नष्ट कर रही है एक अजीब सी निष्ठुर असंवेदनशीलता सामाजिक रिश्तों में उतरती जा रही है। लोग क्यों नहीं देख रहे कि वे खुद का ही नाश किये जा रहे हैं? आज के जमाने में सभ्यता एक भ्रम बनकर रह गयी है, हम कल भी एक जानवर थे आज भी एक जानवर ही हैं हमारा सारा ज्ञान सारी तकनीक खुद को दूसरों से श्रेष्ठ साबित करने का औजार मात्र भर हैं हम आज भी जानवरों की तरह अपने अस्तित्व की लड़ाई ही लड रहे हैं बस आधुनिक तकनीक ने शास्त्रों की मारकता बढ़ा दी है घर्म के नाम पर जो भी अनैतिक काम करने वाले की धूम मची हुई है वहीँ दूसरी तरफ जनता के हित के नाम जनता को ही लूटा जा रहा है  ! " सच कहा आपने सुनीता दोहरे जी l

के द्वारा: juranlistkumar juranlistkumar

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन शहादतपूर्ण होली को नमन - ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

के द्वारा: डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन क्या लिखा जाये, क्या नहीं - ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

के द्वारा: डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन धार्मिक मानसिकता के स्थान पर तुष्टिकरण की नीति में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

के द्वारा: डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

भारतीय समाज में नारी स्थान अनुपम है स्त्री के साथ भेद दृष्टि और लैंगिक असमानता के सैकड़ों संदर्भ समस्त धर्म, साहित्य और परम्परा में बिखरे पड़े हैं। कोई भी धार्मिक मान्यता इससे अछूती नहीं है। सम्प्रदाय मानसिकता में जीने वाली परम्पराएं मानव के रूप में स्त्री को प्रतिष्ठित नहीं कर पायी हैं। जो सभ्य समाज नारी को देवी के रूप में पूजता है आज उसी सभ्य समाज से नारी को अपने आस्तित्व के लिए लडऩा पड़ रहा है, कहने को ये सभ्य समाज होने वाले आडंबरों में सर्वप्रथम ‘कन्या देवी’ का पूजन करते हैं लेकिन इसी पूजन करने वाले आडंबरी समाज में अपनी इन कन्या देवियों को जन्म से पहले ही उखाड़ फैंकने की पुरजोर कोशिश करते हैं। बेटी के नाम पर सौ-सौ कसमें खाने वाला समाज बेटी को उसकी मां की कोख में ही दफनाने में गुर्रेज नहीं करता बिल्कुल सत्य और सही लिखा है आपने आदरणीय सुनीता दोहरे जी , और जागरण ने भी आपकी पोस्ट का उचित पारितोष दिया है ! हार्दिक बधाई

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

सुनीता जी भावनायें उत्तम है किन्तु सत्य यही है क़ि जो तुलसीदास ने समझा यानि ढोल गंवार शूद्र पशु नारी सकल ताड़ना के अधिकारी | किन्तु इसके लिए नर को भी नारायण अवतार होना चाहिए | या देवी सर्वभूतेषु ..........नमस्तश्यै नमस्तश्यै ,नमस्तश्यै नमो नमः से पूजते अहंकार ग्रस्त नारी चण्डी अवतार ही दिखती है | रूप लावण्य के फ़िल्मी अंदाज के रोमांटिक गीत गाते दीवाने नर गुलाम बनकर प्रताडना सहते हैं। क्या नर क्या नारी दोनों मानवीय ,भावनाओं मै ही जी सकते हैं , ना नर नारायण बन सकता है ,ना नारी देवी । पढ लिख कर ,कपडे पहिन घर बार बनाते मनुष्य अवस्य कहलाते हैं किंतु सामान्य जीव जंतुओं से अलग नहीं हैं । ओम शांति शांति का अहसास तीनों लोकों मैं विचरते नारद मुनी भी नहीं कर पाये । कभी नर रूद्र कभी नारी चंडी । .......बस ओम शांति शांति शांति जपो और मुॅह ढककर सो जाओ .........ओम शांति शांति शांति

के द्वारा: PAPI HARISHCHANDRA PAPI HARISHCHANDRA

सुनीता जी निबंध लिखा जाये तो उत्तम है किन्तु सत्य यही है क़ि जो तुलसीदास ने समझा यानि ढोल गंवार शूद्र पशु नारी सकल ताड़ना के अधिकारी | किन्तु इसके लिए नर को भी नारायण अवतार होना चाहिए | या देवी सर्वभूतेषु ..........नमस्तश्यै नमस्तश्यै ,नमस्तश्यै नमो नमः से पूजते अहंकार ग्रस्त नारी चण्डी अवतार ही दिखती है | रूप लावण्य के फ़िल्मी अंदाज के रोमांटिक गीत गाते दीवाने नर गुलाम बनकर प्रताडना सहते हैं। क्या नर क्या नारी दोनों मानवीय ,भावनाओं मै ही जी सकते हैं , ना नर नारायण बन सकता है ,ना नारी देवी । पढ लिख कर ,कपडे पहिन घर बार बनाते मनुष्य अवस्य कहलाते हैं किंतु सामान्य जीव जंतुओं से अलग नहीं हैं । ओम शांति शांति का अहसास तीनों लोकों मैं विचरते नारद मुनी भी नहीं कर पाये । कभी नर रूद्र कभी नारी चंडी । .......बस ओम शांति शांति शांति जपो और मुॅह ढककर सो जाओ .........ओम शांति शांति शांति 

के द्वारा: PAPI HARISHCHANDRA PAPI HARISHCHANDRA

sonam saini जी सादर नमस्कार , सर्वप्रथम तो आपका मेरी पोष्ट पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ! शायद आपने मेरी रिपोर्ट को ठीक से नहीं पढ़ा मैंने स्वयं इस रिपोर्ट में लिखा है की """""""""मुझे लगता है कि पुरूष निर्मित आधार तल पर खड़े होकर, स्वयं को उत्पाद मानकर, देह को आधार बना कर स्त्री विमर्श, नारी मुक्ति की चर्चा करना भी बेमानी सा लगता है इसलिए यहाँ मैं इस वर्ग को हटाकर अपनी बात कह रही हूँ सही मायने में देखा जाये तो पुरूष वर्ग के विरोध में खड़ी नारी शक्ति स्वयं को नारी हांथों में खेलता देख रही है l आज नारी योग्यताओं के शिखर पर जा कर भी, दहेज़ की बलि चढ़ी तो कभी, घरेलू हिंसा, यौन उत्पीड़न, बलात्कार से छली गई तो कभी, परित्यक्ता बनी, तो कभी किसी के घर को उजाड़ने का कारण बनी, बजह अगर देखी जाये तो यही निकल कर सामने आती है कि स्त्री ने कभी पुरुष और पुरुष ने स्त्री पर जहाँ विश्वास नहीं किया वहाँ नारी ना श्रद्धा बनी ना पुरुष को ही मान सम्मान मिला।"""""""

के द्वारा: sunita dohare Management Editor sunita dohare Management Editor

ये सब जानते हैं कि अत्याचार का कोई मजहब नहीं होता तो आपको ये भी मानना पड़ेगा कि राजनीती मजहब पर नही की जा सकती l मजहब पर होने वाली राजनीति का अस्तित्व ना के बराबर होता है l यहाँ पर मोदी सरकार पर इल्जाम लगाने का मेरा मतलब सिर्फ इतना है कि अगर मोदी सरकार चाहती तो कठोर कदम उठाते हुए दोषियों पर कार्यवाही करवाती क्यूंकि दलितों के मामलों को लेकर इनकी सरकार हमेशा उदासीन रही है, प्रदेश सरकारों के मुख्यमंत्रियों की इतनी औकात कहाँ कि जिगर खोलकर ये कह सकें कि मेरे राज्य में दलितों और महिलाओं पर अत्याचार करने वालों पर हम सख्त कानूनी कार्रवाई कर कड़ी सजा देते  हैं l Lllllll बहुत खूब लिखतीं हैं आप एक एक बात खरी lllllll

के द्वारा: juranlistkumar juranlistkumar

के द्वारा: Dr. D K Pandey Dr. D K Pandey

सुनीताजी नमस्कार ! वैसे भी आप तो मीडिया से जुड़े है, देश विदेश की सामाजिक व्यवस्थावों से आपका साक्षात्कार हो चुका है ! नारी समाज के अधिकारों के लिए आपके हाथों लहराता हुआ झंडा आपके अंदर नारी समाज के उत्पीड़न का दर्द दर्शाता है ! सुनीता जी आप ज़रा इतिहास के पन्नो को झाँक के देखिए, सति प्रथा को समाप्त करने के लिए राजा राम मोहन राय स्वयं इंग्लैण्ड गए थे और वहां की पार्लियामेंट से इस कुरीति को समातप करवाया था, वे मर्द थे ! आज चेन्नईं, राजस्थान, पश्चिमी बंगाल, की मुख्या मंत्री की कुर्सियां महिलाएं ही सुशोभित कर रही हैं, कोयल मर्दों के सहयोग से ! प्रभा पाटिल पांच साल तक देश की सबसे बड़ी कुर्सी राष्ट्रपति बन कर रही, इंद्रा गांगी तकरीवन १८ साल प्रधान मंत्री रही, मायावती, राबड़ी देवी को तो आप भूली नहीं होंगी ? इनको सत्ता पर बिठाने में मर्दों की सहमति थी ! देखिए परिवार में नयी नवेली बहु आती है, उसे दहेज़ के लिए परेशान करने वालों में मुख्य भूमिका निभाने वाली, सासू माँ, बड़ी बहु और नन्द होती हैं जो स्वयं नारी होती हैं ! ससुर और पति न चाहते हुए भी बहुमत का साथ देने के लिए मजबूर होजाते हैं ! आपने बहुत सुन्दर ढंग से अपने मनके विचार जागरण जंक्शन के पाठकों तक पहुंचाए , बधाई ! हरेन्द्र जागते रहो !

के द्वारा: harirawat harirawat

शबनम कभी शोला कभी तूफ़ान हैं ऑंखें .......'ऑंखें' का यह गीत बड़ा मार्मिक सत्य को कहता है | आज लगता है आप को पहिली बार शबनमी ऑंखें नजर आई हैं | डूबती इतराती लहराती ऑंखें तब शोला बन जाती हैं जब दिल से दिल न मिले | ... किन्तु जो डूब चूका है इन आँखों मैं उसे तूफानी उफनती भी होती नजर जाती हैं | काश न डूबा होता इन आँखों मैं ...| कुछ समझदार इन आँखों मैं न डूबते महान हस्तियां बन चुके हैं | भारत के राष्ट्र पति ,प्रधानमंत्री ,मुख्यमंत्री तक बन चुके हैं | हमारे वर्तमान प्रधान मंत्री जी ने तो भूल सुधार करते आँखों से नजरें ही चुरा ली हैं | रूस के राष्ट्र पति जी कभी आँख का मतलब भी नहीं समझते थे ,अचानक इस उम्र के पड़ाव मैं उन्हें आँखों का आभास हुआ | नारद मुनी जी तो ब्रह्मर्षि होते हुए भी अचानक आँखों के चक्कर मैं पड़कर अपना सम्मान खो बैठे थे | ............कमजोर मानसिकता के लोग साध्वी या सन्यासी तक हो जाते हैं | भाग्यशाली ही होते हैं कुछ लोग जो नित नैन मटक्का करते नए नए गीतों को भंवरों की तरह गुनगुनाते राजस सुख वैभव पाते हैं | ............................सुनीता जी आपके लेख ने सन्यासी को भी डुबो देने की क्षमता है इसीलिये डूबने से पाहिले साधारण जन को आगाह कर रहा हूँ | शायद अपना लोक परलोक बचा सकें | ओम शांति शांति शांति

के द्वारा: PAPI HARISHCHANDRA PAPI HARISHCHANDRA

आदरणीया सुनीता दोहरे जी ! बेहद शर्मनाक घटना ! सबसे पहले आपके.पीसीएस अधिकारी के और एसपी सिटी बरेली राजीव मल्होत्रा जी के बदमाशों से जूझने के हौसले को सलाम ! महिलाओं से अभद्र व्यवहार और छेड़छाड़ करनेवाले ऐसे संस्कारहीन लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही होनी चाहिए ! मोदी साहब का झाड़ू ऐसे अपराधियों पर न जाने कब चलेगा ! ट्रेनों में सुरक्षा व्यवस्था भी बहुत ख़राब है ! मैंने कई साल से ट्रेनों से यात्रा करना ही छोड़ दिया है,क्योंकि कई साल पहले मैं लखनऊ से कानपूर जा रहा था.मेरे पास बैठ एक बद्तमीज सिगरेट पर सिगरेट फूंके जा रहा था.मेरे शिष्यों ने उसे कई बार समझाया,पर वो माना नहीं,बल्कि उलटे झगड़ा करने लगा.टीटी और पुलिसवाले भी उसे सिगरेट फूंकने से नहीं रोक पाये ! मैंने बद्तमीज लोंगो और अपराधियों की शरणस्थली बन चुकी भारतीय ट्रेनों से यात्रा करना ही छोड़ दिया ! आपने सही कहा है कि लानत है उस डिब्बे में बैठे उन तमाम यात्रियों पर और उन सहयात्रियों पर जो अपने साथ सफ़र कर रहे यात्रियों की मदद नहीं कर सकते और सिर्फ सरकार व पुलिस को कोसते रहते हैं ! एक शर्मनाक,परन्तु तुरंत कड़ी कार्यवाही किये जाने हेतु अत्यंत विचारणीय घटना शेयर करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार ! आपको दिवाली की शुभकामनाएं !

के द्वारा: sadguruji sadguruji

के द्वारा: sunita dohare Management Editor sunita dohare Management Editor

के द्वारा: juranlistkumar juranlistkumar

sadguruji , नमस्कार ! सत्य कहा आपने लखनऊ में हुए गैंगरेप के बाद एसपी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहते है कि आबादी के हिसाब से यूपी में सबसे कम रेप होते हैं। समाजवादी पार्टी के चीफ मुलायम सिंह ने अपनी ऐसी घटिया मानसिकता वाली प्रतिक्रिया लखनऊ के मोहनलालगंज में दिल्ली की निर्भया जैसी हुई बर्बर गैंग रेप की वारदात के बाद दी है। मुलायम ने कहा, 'प्रदेश की आबादी बहुत ज्यादा है। यहां 21 करोड़ से ज्यादा की आबादी है। यदि देश भर में सबसे कम रेप कहीं होते हैं तो वह उत्तर प्रदेश है। राज्य में हर अपराध को कंट्रोल नहीं किया जा सकता।' अब इनकी दिमाग की फितरत को क्या कहा जाए ये नौटंकीबाज अब आंकडो की मुठभेड़ कर रहे हैं....अब यही बचा है कि विपक्ष मे जनता की आवाज़ और सत्ता मे आंकडो का खेल.... बड़ी बेशर्म हैं हमारे देश के नेताओं की मानसिकता. इन आंकड़ों के हिसाब से सरकार तो सरकार, यूपी का महिला आयोग भी निकम्मा साबित हो रहा है।

के द्वारा: sunita dohare Management Editor sunita dohare Management Editor

आपने सही कहा है-धिक्कार है उस समाज पर जो अपने समाज की महिलाओं और उनके सम्मान संस्कार की रक्षा नहीं कर सकते, धिक्कार है उन दुष्कर्मियों पर जो कानून अपने हाथ में लेकर महिलाओं का शोषण बालात्कार या हत्या कर अपने को बलवान साबित करते हैं !!!!!! अपराधियों को जबतक सार्वजनिक रूप से मृत्युदंड की सजा नहीं मिलेगी,तबतक लोंगो के मन में कानून के प्रति भय पैदा नहीं होगा और अपराध भी कम नहीं होंगे ! अपराध दिंिोड़िन बढ़ते ही जा रहे हैं ! कागजी खानापूर्ति और झूठे आश्वासन देने के सिवा प्रशासन और कुछ नहीं कर पा रहा है ! इस अमानवीय और क्रूर कृत्य की जितनी भी निंदा की जाये कम है ! समाज में संस्कारी लोग कम हो रहे हैं और नशेड़ी,मनबढ़ू व कुसंस्कारी लोग बढ़ते जा रहे हैं ! यही लोग अपराध भी कर रहे हैं ! इन लोंगो की गतिविधियों पर जबतक सरकार अंकुश नहीं लगाएगी,तबतक बढ़ते अपराधों पर नियंत्रण नहीं होगा !

के द्वारा: sadguruji sadguruji

आदयणीया सुनीता दोहरे जी !आपका लेख एक सुन्दर विस्तृत लेख है जिसमे आपने मोदीजी की सफलता के मूल को लोगों तक पहुँचाने का पूरा सफल प्रयत्न किया है और साथ में अपनी इन यतार्थपूर्ण लाइनों में वो प्रश्न भी कर दिया जो की मोदी की अब आने वाले दिनों की सफलता का लिटमस टेस्ट होगा– “मुझे लगता है कि पांच साल नहीं अब तो 10 साल तक यह मोदी नामा चलता रहेगा। लेकिन मैं एक आम आदमी और एक आदमी के नजरिए से ही सोचती हूं। भई मेरे लिए अच्छे दिन तब आयेंगे जब मेरे घर का बजट, सिलेंडर, पैट्रोल, डीजल के दाम नहीं बढ़ेंगे, खाद्य पदार्थों, बस व रेल किराया नहीं बढ़ेगा। सड़कों पर सफाई, अतिक्रमण बंद होगा। सर्विस टैक्स हटेगा, जो चैन से होटल में खाना भी नहीं खाने देता। बिजली, पानी भरपूर मात्रा में मिलेगा। सड़कों पर गड्ढे नहीं होंगे सबसे बड़ी और खास बात जिस दिन मैं सड़क पर बेखौफ होकर सुरक्षित चलने का अहसास करूंगी, शायद तभी मैं कहूंगी कि अब अच्छे दिन आ गए हैं” सुन्दर तर्कपूर्ण लेख के लिए साधुवाद.

के द्वारा: juranlistkumar juranlistkumar

आपका लेख एक सुन्दर विस्तृत लेख है जिसमे आपने मोदीजी की सफलता के मूल को लोगों तक पहुँचाने का पूरा सफल प्रयत्न किया है और साथ में अपनी इन यतार्थपूर्ण लाइनों में वो प्रश्न भी कर दिया जो की मोदी की अब आने वाले दिनों की सफलता का लिटमस टेस्ट होगा-- "मुझे लगता है कि पांच साल नहीं अब तो 10 साल तक यह मोदी नामा चलता रहेगा। लेकिन मैं एक आम आदमी और एक आदमी के नजरिए से ही सोचती हूं। भई मेरे लिए अच्छे दिन तब आयेंगे जब मेरे घर का बजट, सिलेंडर, पैट्रोल, डीजल के दाम नहीं बढ़ेंगे, खाद्य पदार्थों, बस व रेल किराया नहीं बढ़ेगा। सड़कों पर सफाई, अतिक्रमण बंद होगा। सर्विस टैक्स हटेगा, जो चैन से होटल में खाना भी नहीं खाने देता। बिजली, पानी भरपूर मात्रा में मिलेगा। सड़कों पर गड्ढे नहीं होंगे सबसे बड़ी और खास बात जिस दिन मैं सड़क पर बेखौफ होकर सुरक्षित चलने का अहसास करूंगी, शायद तभी मैं कहूंगी कि अब अच्छे दिन आ गए हैं" सुन्दर तर्कपूर्ण लेख के लिए साधुवाद. सुभकामनाओं के साथ ..रवीन्द्र के कपूर

के द्वारा: Ravindra K Kapoor Ravindra K Kapoor

के द्वारा: munish munish

के द्वारा: sunita dohare Management Editor sunita dohare Management Editor

पहली बात तो यह है कि एक औरत बहुत जल्द ही बिना विचार किए किसी दूसरी औरत के चरित्र का विश्लेषण करने लगती है। मीडिया और राजनीति का किस हद तक जुड़ाव है इस बात को आपको समझाने की जरूरत नहीं होंगी। आंनद प्रधान जी को आप इतने करीब से जानती है सुनीता जी, तो आप यह भी जानती होगी कि अमृता और आनंद प्रधान जी ने प्रेम विवाह किया था। फिर ऐसा क्या हुआ कि अपनी उम्र के 35 साल किसी पुरुष के साथ व्यतीत करने के बाद किसी अन्य पुरुष का सहारा लेने की जरूरत पड़ी। खैर आपने इन सब तमाम विषयों पर विचार नहीं किया होगा। यदि आप वास्तव में निजता का सम्मान करती तो आप इस प्रकार के विषय पर अपनी कलम चलाने की जरूरत नहीं समझती। मीडिया ने टीआरपी के लिए इस मामले को एक खेल का रूप दिया और आप जैसे खिलाड़ियों ने इस खेल में भाग लिया। सोचिए यदि आप जैसे लोग इस विषय को यह सोचकर नकार दें कि यह किसी के निजी जीवन से संबंधित है तो मीडिया कभी भी ऐसे मामले से टीआरपी नहीं ले पाएगी। लेकिन सुनिता जी आपको भी इस गर्मागर्म विषय पर लिखकर एक आदि कमेंट मिल ही गई बस वो ही काम मीडिया करती है। आपके लिए एक सलाह है कि इस प्रकार के विषयों पर लिखने से पहले पूर्ण जानकारी लीजिए नहीं तो फिर किसी अन्य विषय का चुनाव कर लीजिए क्योंकि मुझें यकीन है कि आपकी कलम को केवल चलने मतलब है..अब क्या लिख रही है इस विषय पर भला कौन ध्यान दें। मुझें संतोष मिल जाता यदि आप जैसी एक भी स्त्री इस विषय पर लिखने से पहले समाज, समाज द्वारा निर्मित की गई स्त्री की सीमा रेखाएं, पुरुष का नजरिया, एक-दूसरे के प्रति आकर्षण का कारण या फिर मीडिया और राजनीति का संबंध जैसे तमाम विषयों पर विचार करती और फिर इस विषय पर टिप्पणी करती। खैर आपने भी बिना विचार किए, अपनी चुनौती में किसी अन्य औरत को सामने पाकर उसके चरित्र का विश्लेषण कर दिया।

के द्वारा: गुजारिश (कीर्ति चौहान) गुजारिश (कीर्ति चौहान)

sadguruji , सर , सबसे पहले तो आपको बहुत -बहुत धन्यवाद क्योंकि आपने मेरी रचनाओं को पढ़ा और सराहा ..... सद्गुरु जी , मुझे चयन मंडली से कोई शिकायत इसलिए नहीं है कि मैं ये सोचकर कभी नहीं लिखती हूँ कि मैं चयनित की जाऊं .... यहाँ पर एक से एक लेखक है जो मुझसे ज्यादा कहीं माहिर हैं और उनसे मुझे जो सीख मिल रही है वो मेरे लिए बहुत बड़ा गिफ्ट है ..... और मेरे लिए सबसे बड़ी बात ये भी है कि "जागरण जंक्शन ब्लॉग" पर मैं खुल कर लिख सकती हूँ ........ ऐसा भी नही कि मैं कभी चुनी नहीं गयी .... कई बार बेस्ट ब्लॉगर भी बन चुकी हूँ ..... मेरी पोस्ट टॉप पर कई बार रही है ...... मुझे ख़ुशी है कि इस मंच के जरिये मैं अपने विचारों से सभी को अवगत करा पा रही हूँ और साथ ही साथ समाज को कुछ दे प् रही हूँ ......... सादर नमन ....

के द्वारा: sunita dohare Management Editor sunita dohare Management Editor

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

वाह रे आम आदमी के “ख़ास” आदमी सरकारी बंगले को लेने से मना कर चुके दिल्ली के मुख्यचमंत्री अरविंद केजरीवाल को रहने के लिए मिला अपार्टमेंट कई सुप्रीम कोर्ट जजों के बंगलों और केंद्रीय मंत्रियों के बंगले से बड़ा है. केजरीवाल के परिवार ने अपार्टमेंट देख लिया है, अपार्टमेंट की चाभी दिल्ली सरकार को साफ सफाई के लिए दे दी गई है। ये फ्लैट आम आदमी के फ्लैट के जैसा न होकर सारी सुविधाओं से लैस है. केजरीवाल को एक दूसरे से सटे दो फ्लैट आबंटित हुए हैं। एक में उनका दफ्तर होगा और दूसरे में वो खुद रहेंगे. भगवानदास रोड पर बने ये दोनों फ्लैट ड्यूपले हैं शहरी विकास मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक 7/7 भगवानदास रोड में होगा केजरीवाल का दफ्तर, तो 7/6 भगवानदास रोड केजरीवाल का निवास होगा. दोनों अपार्टमेंट में 5-5 बेडरुम और एक-एक लॉन हैं। दोनों अपार्टमेंट का कुल एरिया है करीब 9 हजार वर्ग फीट और बिल्ट अप एरिया है करीब 6 हजार वर्ग फीट है.............. वैसे सुबह की बात शाम को और शाम की बात सुबह भूल जाना ही तो एक अच्छे नेता का लक्षण है......... सुनीता दोहरे .....

के द्वारा: sunita dohare sub editor sunita dohare sub editor

सुनीता जी, आपने तमाम देश के सच्चे देश प्रेमियों, भक्तों की छिपी आवाज को उजागर किया है ! हम कहते हैं कि भारत की जनता इन ६६ सालों में काफी शिक्षित हो गयी है ! अपने मतों की कीमत और इसका प्रयोग कैसे करना है, इसे अच्छी तरह जान गयी है, लेकिन हम गलत हैं ! कांग्रेस ६६ सालों से राज कर रही है, काले धन से विदेशी बैंकों को भर रही है, खुद लखपति से अरब पति बन रहे हैं, जनता के विकास के नाम पर नेताओं के महल बन रहे हैं ! अरविंद केजरीवाल आम आदमी की पार्टी के नाम पर काश्मीर से भी छूट कारा पाना चाहते हैं ! आतंकावाद फैलानेवालों को भी आम आदमी बता रहे हैं ! कल तक कांग्रेस को भ्रष्टचारी बता रहे थे आज सरकार उन्ही के सहयोग से बना रहे हैं ! आँखें बंद करके ऐसे राजनेताओं को ही मत देकर जीता रहे हैं ! असलियत बयान करने के लिए आप धन्यवाद के पात्र हैं ! हरेन्द्र जागते रहो

के द्वारा: harirawat harirawat

के द्वारा: dhirchauhan72 dhirchauhan72

के द्वारा: abhishek shukla abhishek shukla

के द्वारा: Rajesh Kumar Srivastav Rajesh Kumar Srivastav