blogid : 2297 postid : 7

परछाई

Posted On: 30 Apr, 2011 Others में

zindggikuch raz dil ke

aanchsaroha

9 Posts

33 Comments

हालात से

 

गुज़र कर

 

चटकती रूह

 

कडवी रही बहुत……

 

 

 

जिस्म को ज़ी

 

 भर के सहलाती

 

रही चाँद की मीठी

 

सी परछाई….
—–आंच——

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग