blogid : 27065 postid : 3

पहर (कविता)

Posted On: 6 Jul, 2019 Others में

Aazaad bolJust another Jagranjunction Blogs Sites site

azaadbol

2 Posts

1 Comment

क्या खूब घटा की हैं वो पहर,
जहाँ रंक भी स्वप्न को जीना चाहे,
मीन भी तोय की सीमा से उभर जाए,
क्या खूब घटा की हैं वो पहर।

मेघपुष्प की अमृत से जग फिर गुलज़ार हो जाए,
राजा-रंक की सीमा से संसार परे हो जाए,
फिर वही गीत उसी धुन से मनमोहित कर जाए,
क्या खूब घटा की हैं वो पहर जो बार-बार आती जाए।

Tags:       

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग