blogid : 21455 postid : 883816

नेपाल का तबाही ( २५-०४-२०१५ )

Posted On: 13 May, 2015 Others में

कविताRead me to read yourself.

अभिषेक अनंत

28 Posts

0 Comment

नेपाल में भूकम्प का रहा ऐसा कहर !
खंडहरों में तबदील हो गया मुस्कुराता शहर !

भव्यता ही रहीं इसकी पहचान है !
आज लग रहा है कि शमशान है !
हर तरफ दिख रहा इसका साफ -साफ असर !
खंडहरों में तबदील हो गया मुस्कुराता शहर !

हर तरफ दर्द और खौफ का माहौल है !
ऊपर से बारिश उडा रहा मखौल हैं!
प्रकृति दिखा रही अजब तेवर !
खंडहरों में तबदील हो गया मुस्कुराता शहर !

भूकम्परोधी इमारतें भी हो गयी है धवस्त !
हौसले वाले भी दिख रहे हैं पस्त !
बची जिंदगियां भी हैं घर से बेघर !
खंडहरों में तब्दील हो गया मुस्कुराता शहर !

कितना शांति और सुकून था पहले !
अब कितना अशांति और खौफ दिख रहा हैं !
हर वर्ग को झेलना पड़ रहा है इसका असर !
खंडहरों में तबदील हो या मुस्कुराता शहर !

लाखों की संख्या में लोग ले रहे हैं खुले में पनाह .
किसी को समझ नहीं आता भूकम्प करेगा कब क्या ?
भारत दिखा सबसे पहले मद्द को तत्पर .
खंडहरों में तबदील हो गया मुस्कुराता शहर !

भूकम्प ने मचा रखा है हर तरफ तबाही !
नेपाल का कण – कण दे रहा गवाही !
हे भगवान ! कब ख़त्म होगा इसका असर !
खंडहरों में तबदील हो गया मुस्कुराता शहर !
अभिषेक अनंत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग