blogid : 2730 postid : 245

चलो चलें (जलें)

Posted On: 17 Nov, 2011 Others में

mere vicharJust another weblog

abodhbaalak

46 Posts

1192 Comments

 

लेख  लिखने  के  पहले  ही ,अपने  कुछ  मित्रों  से  क्षमा  चाहता  हूँ , क्योंकि  जिस  विषय  पर  लिख  रहा  हूँ , वो  कई  लोगों  कि   बड़ी   मुंहलगी वस्तु   है.

  

आज  आपके  सामने  धूम्रपान,यानि  स्मोकिंग  के  बारे  में  लिखना  चाहता  हूँ, जो  कि,कुछ  लोगों  के  अनुसार  बड़े  लाभ  कि  चीज़  है  और  कुछ  लोग  इसे  ………

 

धूम्रपान  का  इतिहास  बड़ा  ही  पुराना  है,सदियों  नहीं  बल्कि  हज़ारों   साल  से  इसका  उपयोग  अलग – अलग रूप  में  होता  आ  रहा  है, मैंने  कई  बार  इस  बारे  में  जान्ने  का  प्रयास  किया   के   इसका  उपयोग  करते  क्यों  है ? इसके  क्या  लाभ / हानि  हैं?

 

जहाँ  तक  मुझ  अबोध  ने  पाया,वो  ये  के अक्सर  लोग  इसकी  शुरुआत  केवल  मज़ा  लेने  या  दूसरो  कि  देखा  देखि  या  कि  अपने  आपको  मैचो  दिखने  के  लिए  करते  हैं . धीरे  धीरे  ये  उनकी  दिनचर्या  का  एक  हिस्सा  बन  जाती  है  और  वो  फिर  इसके  बिना  रह  नहीं पाते.वो  उनकी  आदत  बन  जाती  है  और  इतनी  मुन्ह्लागी  हो  जाती  है  कि  छह  कर  भी  वो  इससे  छुटकारा  नहीं  पा  पाते.

 

ये  मेरा  (सौ/दुर  )भाग्य  है  कि  मै  आज  तक  इस    को  अपने  मुंह  से  नहीं  लगा  पाया , यदपि  घर  में  पिता  जी  इसके  आदि  थे  पर  पता  नहीं  क्यों, मै  उनका  अनुसरण  नहीं  कर  पाया , जबकि  और  बातो  में  उनकी  कापी  करने  का  ……………, एक  कारण  ये  भी  हो  सकता  है  कि  मुझे  धुंए  से  एलर्जी  थी  और  इसके  धुए  के  कारण  सांस  कि  तकलीफ  होने  लगती  थी.

 

इससे  जुडी  बहुत  सारी  मज़ेदार  बातें  भी  है  कि  इसके  कई  फायदे  हैं – इसका  प्रयोग  करने  वालो  को  दिल  के  दौरे  कम  पड़ते  हैं  तो  कहीं  ये  कि  मोटापा  कम  करता  है  to कहीं  घुटनों  के  तकलीफ  …… आदि  आदि. इसमें कहाँ तक सत्यता है ये मै नहीं जानता. इससे  जुड़े  बहुत  सारे  जोक्स  भी  मुझे  पढने  को  मिले  के  जो  धूम्रपान  करेगा  उसके  घर  में  चोर  नहीं  आयेंगे  क्योंकि  वो  सारी  रात  खांसते   खांसते  बीतायेगा  और  चोर  समझेगा  कि  ये  …….., वैसे  ही  कुत्ते  उससे  दूर  रहेगे  क्योंकि  वो  धूम्रपान  के  कारण  इतना  कमज़ोर  हो  जायेगा  कि   उसको  चलने  के  लिए  लाठी  का  सहारा  लेना  पड़ेगा  और   कुत्ते  लाठी  देख  कर  दूर  …………………,

अधिकतर  लोग  कहते  हैं  कि  ये  तनाव  को  भगाने  का  काम  करता  है , और  इस  से  टेंशन  दूर  हो  जाता  है . शायद  ये  सही  हो  पर  मेरे  समझ  में  ये  नहीं  आता  कि  क्या  इससे  टेंशन  पूरी  तरह  से  दूर  हो  जाता  है  या  इससे  वो  समस्या  जिसकी  वजह  से  टेंशन  होता  है  वो  भी  दूर  हो  जाती  है ? टेंशन  को  दूर  करने  के  लिए  ऐसी  चीज़  का  प्रयोग  जो  कि  हमारे  जीवन  को  ही  ……………….. कहाँ  तक  सही  है ? मेरे  विचार  से  तनाव  को  दूर  करने  के  लिए  खुली  हवा  में  जा  कर  गहरी  सांस  लेना  बड़ा  लाभदायक  है  न  कि  अपने  कलेजे  को  चिमनी  से  जलाना . ये  जानते  हुए  कि  इसके  कारण  न  केवल  हम  अपने  आपको  बीमार  बना  रहे  हैं  बल्कि  हमारे  साथ  जुड़े  हर  उस  व्यक्ति  को  जो  हमें  आपसे  से  अधिक  प्रिय  है , को  भी  ……………., कहाँ  तक  समझदारी  है ?

 

इसको  छोड़ना  आसन  नहीं  है  अगर  एक  बार  ये  आपके  मुंह  लग  जाए , यही  नहीं  हर  बुरी /अच्छी  आदत  को  छोड़ना  आसान  नहीं  है.बहुत  मज़बूत  इच्छा  शक्ति  कि  आवश्यकता  होती  है , और  इसे  एक  बार  में  छोड़ा  भी  नहीं  जाना चाहिए , नहीं  तो  इसके  परिणाम  स्वरुप  कई  दूसरी  बीमारियों   के  होने  का  पता  चला  है ,  इसको  छोड़ने  के  लिए  मन  में  ठान  लें , ये  सोचे  कि  इसको  छोड़ने   से  मुझे  न  केवल  शारीरिक  लाभ  होगा  बल्कि  आर्थिक  रूप  से  भी  इस  पैसे  का  उपयोग   कहीं  और  बेहतर  जगह  हो  सकता  है , ये  सोचें  कि  मै  अपने  परिवार  को  बेहतर   भविष्य  दे  सकूंगा , बेहतर  वातावरण  दे  सकूंगा.

 

कोशिश  करें, क्योंकि  कोशिश  करने  वालो  कि  कभी  हार  नहीं  होती, बस  कोशिश इमानदारी  से  होनी  चाहिए, क्योंकि  कोशिशें  ही  अक्सर  कामयाब  होती  है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग