blogid : 2730 postid : 240

हम जानवर हैं, वहशी जानवर

Posted On: 1 Nov, 2011 Others में

mere vicharJust another weblog

abodhbaalak

46 Posts

1192 Comments

 

“Man is a social animal”, मनुष्य  एक  सामाजिक  प्राणी  है . बहुत  पहले  ये  पढ़ा  था , शायद  अरस्तू  का  कहा  हुआ  ये  सेंटेंस सही  है , पर  जहाँ  तक  मुझे  लगता   है  की  एनिमल  को  जंतु  या  प्राणी  कहने  के  बजाये  जानवर  कहें  तो  कुछ  ज्यादा  ही  सही  बैठता  है  और  सुनने  में  भी  ……… ,

 

चलिए  हम  अपने  दिल  को  बहलाने  के  लिए  सोशल  या  सामाजिक  शब्द  का  प्रयोग   कर  लेते  हैं  पर  सच  में  तो  हम  हैं  जानवर  ही  ना ?

 

हम  तरह – तरह  के  सुन्दर  शब्दों  का  प्रयोग   कर  के  अपने  आपको  कुछ  भी   कहें – सभी , शालीन , सुशिक्षित , सुसंस्कृत  आदि  आदि   पर  क्या  हम  इस  बात  से  इंकार  कर  सकते  हैं  की  इन  शब्दों  के  पीछे  हम  हैं  तो  जानवर .

 

कहते  हैं  की  व्यक्ति  अपने  सवभाव   को , कभी  बदल  नहीं  सकता ,वो  अपने  अन्दर  जो  बदलाव  लता  है  वो  उसकी  प्रवृति  को  कुछ  हद  तक  दबा  तो  ज़रूर  देता  है , उसमे  थोडा  बदलाव  तो  ला  सकता   है  पर  पूरी  तरह  से  नहीं   समाप्त  कर   पाता , उसके  अन्दर  उसकी  असली  प्रवृति   ढकी  छुपी  बैठी  रहती  है  और  जैसे  ही  उसे  अवसर  मिलता  है  वो  फिर  से  एक  बार  अपने  असली  रूप  में  …………

 

आप  सोच  रहे  होंगे  की  ये  आज  मुझे  क्या  हो  गया  है  जो  इश्वर  की  सबसे  उत्तम  कृति  को  आज   जानवर  कहने  पर  तुला  हूँ ? दर  असल  पिछले  दिनों  गद्दाफी  का  अंत  देखा , सड़क  पर , लोगों  के  बीच , पिटते  हुए , मार  खाते  हुए , और  फिर  एक  युवक  के  हाथों  गोली  खा  कर  मरते  हुए . उसका  अंतिम  संस्कार  करने  के  लिए  भी  …………., अब  आप  सोच  रहे  होंगे  की  मै  गद्दाफी  का  समर्थन  कबसे  करने  लगा ? ऐसा  कुछ  नहीं  है , ना  मै  उसका  समर्थक  हूँ  और  ना  ही  उसके  लिए  मेरे  मन  में  किसी  भी  तरह  की  सदभावना   है , मै  तो  केवल  उस  भीढ़  की  मानसिकता की  बात  कर  रह  हूँ  जो  उसे  मार  रही  थी , और  ख़ुशी  से  झूम  रही  थी , और  कहीं  na कहीं  उस  भीड़  के  हर  व्यक्ति  के  बीच  छिपा  हुआ  जानवर  ………………….,

 

ये  केवल  वहीँ  की  बात  नहीं  है , बल्कि  हर  जगह  की  बात  है , हमारे  अन्दर  का छिपा  हुआ  जानवर , समय  समय  पर  बाहर  निकलता  रहता  है , कहीं  सड़क  पर  पुलिस   के  हाथों  बुरी  तरह  पिट ता   हुआ  आदमी , तो  कभी  डंडो  के  बीच  हाथ  पैर  से  लटका  हुआ , कहीं  सड़क  पर  चलती  लड़की  पर  तेजाब  फेकता  तो  कभी   1984 के  दंगो  में  ना  जाने  कितने  मासूमो  को ……….., तो  कभी  गोधरा  की  ट्रेन  के  मासूम  यात्रियों  को  जलाते   हुए , कभी  गुजरात  के  बाकी  शहरो  में  औरतो  और  बच्चो …………………………, उसे  मौक़ा  मिलना  चाहिए  की   कैसे  वो  बाहर  निकले  और  इंसान  होने  के  ढकोसोलो  को  चीर  कर  अपनी  असली  प्रवृति  को  सबके  सामने ………………………..,

 

कहते  हैं  की  धर्म  ही  केवल  वो  मार्ग  है  जिसको  अपना  कर  हम  अपने  आपको  …………… पर  हमारे  अन्दर  का  छिपा  हुआ  जानवर  तो  इसका  भी  लाभ  उठाकर …………………………., और  इसी  का  माध्यम  बना  कर  शिकार  करता  है ,

 

पता  नहीं  मुझे  ऐसा  क्यों  लगता  है  की  हम  सब  केवल  नाम  के  ही  …………………. पर  हम  सब  हैं  अन्दर  से  जानवर , वहशी  जानवर .

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 4.27 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग