blogid : 9493 postid : 692928

" नूर में ज्यों नहाई हुई चांदनी "

Posted On: 23 Jan, 2014 Others में

kavitameri bhavnaon ka sangrah

Acharya Vijay Gunjan

66 Posts

1620 Comments

beautiful-indian-women-painting-art आप का रूप ज्यों चांदनी की चमक दामिनी की दमक से भरे अंग हैं !
=
दूध से यों धुली देह कुन्दन लगे
नूर में ज्यों नहाई हुई चांदनी
मद चुए मदभरे नैन से अनवरत
मुग्ध मुग्धा बनी लग रही कामिनी
=
सृष्टि-करतार ने निज सृजन के समय आप में भर दिए नव कई रंग हैं !
आप का रूप ज्यों चांदनी की चमक दामिनी की दमक से भरे अंग हैं !!
=
ओष्ठपुट बंद यों ज्यों कमल को किसी
सूर्य की है प्रतीक्षा मनः प्राण से
कौन जिसके ह्रदय की कली प्रस्फुटित
हो रही आप की मंद मुस्कान से
=
नर्म बाहें बदन मरमरी सुर्ख लव आप की हर अदा के अलग ढंग हैं !
आप का रूप ज्यों चांदनी की चमक दामिनी की दमक से भरे अंग हैं !!
=
आप के पीतवर्णी मृदुल कर-तलों में
कलाएँ कुलाँचें सदा भर रहीं
काल के पृष्ठ पर किस नवाध्याय का
तर्जनी के सहारे सृजन कर रहीं
=
आज मन्मथ मदी से मधुर वृत्तियाँ रागिनी की यहाँ कर रहीं जंग हैं !
आप का रूप ज्यों चांदनी की चमक दामिनी की दमक से भरे अंग हैं !!
आचार्य विजय ‘ गुंजन ‘

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग