blogid : 9493 postid : 710322

याद फिर तेरी आई है .......

Posted On: 28 Feb, 2014 Others में

kavitameri bhavnaon ka sangrah

Acharya Vijay Gunjan

66 Posts

1620 Comments

बहुत दिनों के बाद याद फिर तेरी आई है !
स्मृतियों ने आकर चुपके से रची सगाई है !!
=
बीते पल वक – पंक्ति सरीखे
नभ से उतर रहे ,
मन के वातायन से अंतस –
पट पर पसर रहे |
=
वर्षों से सूखी घाटी फिर अब लहराई है !
बहुत दिनों के बाद याद फिर तेरी आई है !!
=
सुधियों की बारात, बिना –
परिछन के लौट रही,
वहीं धरी की धरी समूची
बातें जो न कही |
=
अभी कहानी बाकी जो अबतक न सुनाई है !
बहुत दिनों के बाद याद फिर तेरी आई है !!
=
एकाकीपन में तेरा जब
चित्र उभर आता ,
वर्त्तमान तब उस अतीत की
कविता लिख जाता |
=
जो न बही धारा अबतक बस वही बहाई है !
बहुत दिनों के बाद याद फिर तेरी आई है !!
आचार्य विजय ‘ गुंजन ‘

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग