blogid : 17203 postid : 754759

गजल -

Posted On: 15 Jun, 2014 Others में

kavita Just another Jagranjunction Blogs weblog

acharyashivprakash

44 Posts

42 Comments

बह अपंगों से रहा जो नीर उसको रोक दो |
ठग न विशवामित्र जाए मेनका को टोक दो ||

पिंगला की प्रीति बदली जान लो ये भर्तृहरि |
राजनीती को बचाओ ज्ञान को आलोक दो ||

प्राण दशरथ के गये थे कैकेयी मानी नहीं |
प्रेम अन्धा है सदा से राम को मत शोक दो ||

प्रेम तुलसी ने किया रत्नावली से क्या मिला ?
राम की भक्ति में सारी शक्ति अपनी झोंक दो ||

प्रेम शाश्वत सार है शिव प्रेम घोलो भक्ति में |
राहबर हो रूह के तुम रूह को ध्रुवलोक दो ||

आचार्य शिवप्रकाश अवस्थी
९४१२२२४५४८

Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग