blogid : 14295 postid : 1242697

देशभक्ति आज बस इतिहास ही तो है

Posted On: 5 Sep, 2016 Others में

Achyutam keshvamहम समय शम्भु के चाप चढ़े सायक हैं. हम पीड़ित मानवता के नव नायक हैं हम मृतकों को संजीवन मन्त्र सुनाते हम गीत नहीं युग गीता के गायक हैं

achyutamkeshvam

105 Posts

250 Comments

देशभक्ति आज बस इतिहास ही तो है .
और सारा देश जिन्दा लाश ही तो है .

कल लुटेरे थे विदेशी अब लुटेरे हैं स्वदेशी .
शेष सारी कौम इनकी दास ही तो है .

आजादी जम्हूरियत ये कोर्ट संसद या सभा.
अशफाक़ का आजाद का उपहास ही तो है .

स्वप्न का उद्देश्य का अपने भविष्यत का
देखते प्रत्यक्ष जो सब नाश ही तो है .

कुछ राजनैतिक अश्व बाकी आप हम गदहे .
अरु गधों के भाग्य में बस घास ही तो है .

सीट पै मोदी हों बैठे याकि मनमोहन जनाब
आपकी किस्मत में भूख और प्यास ही तो है .

बेटियों की आबरू तक को बचा पाये नहीं .
क़ानून का शासन महज बकवास ही तो है .

मैं भी हूँ मदहोश प्यारे आप भी मदहोश हैं .
बात फिर तहजीब की परिहास ही तो है .

देश में सूखा हो चाहे भुखमरी नदियों में बाढ़ .
कह रही सरकार जब मधुमास ही तो है .

पन्द्रह अगस्त क्या है बताओ हाथ दिल पै रख हुजूर .
एक झूंठी जीत का अहसास ही तो है .

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग