blogid : 1876 postid : 749

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती (कविता)

Posted On: 16 Jun, 2010 Others में

मुझे भी कुछ कहना हैविचारों की अभिव्यक्ति

Dr. Aditi Kailash

46 Posts

1272 Comments

बहुत दिनों से चाह रही थी कि आप लोगों को एक ऐसी रचना से रूबरू करवाऊं जो कि मेरे दिल के काफी करीब हैं और जिसे पढ़कर मुझे बहुत ही प्रेरणा मिलती है…… जब भी कोई काम मुझे बहुत मुश्किल लगता है या जिसे करने से पहले ही मन में एक डर सा रहता कि पता नहीं मै सफल हो पाऊँगी या नहीं….. मैं इस रचना की गोद में आ जाती हूँ….. इस रचना को पढ़कर मुझे इतना हौसला मिलता है कि मेरा सारा डर कहाँ जा कर छुप जाता है, पता ही नहीं चलता……

चूँकि ये रचना मेरे द्वारा रचित नहीं हैं, तो इसका क्रेडिट लेने का हक भी मेरा नहीं बनता है……एक अच्छे ब्लोगर होने के नाते मैं चाहूंगी कि सबसे पहले मैं आपको उस रचनाकार से मिलवाऊं …. ये रचना है हिंदी कविता के महान छायावादी कवि सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ जी की…..

सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’, जयशंकर प्रसाद और महादेवी वर्मा के साथ हिन्दी साहित्य में छायावाद के प्रमुख स्तंभ माने जाते हैं…… उन्होंने कहानियाँ उपन्यास और निबंध भी लिखे हैं किन्तु उनकी ख्याति विशेषरुप से कविता के कारण ही है……..अपने समकालीन अन्य कवियों से अलग उन्होंने कविता में कल्पना का सहारा बहुत कम लिया है और यथार्थ को प्रमुखता से चित्रित किया है……….. वे हिन्दी में मुक्तछंद के प्रवर्तक भी माने जाते हैं…….. परिमल, गीतिका, द्वितीय अनामिका, तुलसीदास, कुकुरमुत्ता, अणिमा, बेला, नये पत्ते, अर्चना, आराधना, गीत कुंज और सांध्य काकली निराला जी के प्रमुख काव्यसंग्रह हैं……

मेरी पसंदीदा रचनाओं में से एक “कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती” निराला जी की एक बहुत ही सुन्दर और प्रेरणादायक रचना है……. शायद आप में से कई लोगों ने इसे पहले भी पढ़ा हो….और जिन्होंने नहीं पढ़ा है मैं चाहूंगी कि जरुर पढ़े…..जब भी भविष्य को लेकर मन में उहापोह की स्थिति होती है और मन बहुत विचलित होता है, ये कविता ही है जो मुझे हौसला देती है……और कार्य करने के लिए प्रेरित करती है…. आप भी पढ़िए और बताइयेगा जरुर की आपको ये रचना आपको कैसी लगी…..

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

fire_ants02नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है ।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है ।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।


डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है ।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में ।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो ।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम ।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (42 votes, average: 4.43 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग