blogid : 1876 postid : 934

ये चोरी नहीं तो और क्या है.. कृपया मेरी मदद करें (लेख)

Posted On: 23 Jun, 2010 Others में

मुझे भी कुछ कहना हैविचारों की अभिव्यक्ति

Dr. Aditi Kailash

46 Posts

1272 Comments

आज आपकी यह पोस्ट यहाँ —————————————- भी पढी , क्या वहां भी आप ही हैं…. प्रतिक्रिया: सीमा सचदेव

सबसे पहले तो मैं सीमा जी का धन्यवाद् अदा करना चाहूंगी कि उन्होंने मुझे इस चोरी कि जानकारी दी… उन्होंने एक जागरूक ब्लोगर होने का फ़र्ज़ निभाया…..

अभी-अभी मैं जागरण जंक्शन खोल कर अपनी पोस्ट पर आई प्रतिक्रियाओं का जवाब दे ही रही थी कि मुझे सीमा जी की प्रतिक्रिया दिखाई दी…. उसे देख कर मन में अजीब-अजीब तरह के विचार आ रहे थे….. सीमा जी के द्वारा दिए गए लिंक पर जब गए और वहां अपनी रचना “नेट की लत मोहे ऐसी लागी…… हो गई मैं दीवानी” को वैसे का वैसे ही किसी और के नाम से पढ़ा तो बहुत ही ख़राब सा लगा…… उसे  पढ़कर मन बहुत ही बेचैन हो गया….

हमने इतनी मेहनत कर के चार या पांच दिन में वो रचना लिखी थी और किसी ने बस दो मिनट में कॉपी पेस्ट किया और बना ली उसे अपनी…. और तो और अगर हमें सीमा जी नहीं बताती तो हमें पता भी नहीं चलता……. क्या ये चोरी नहीं है….. क्या ये धोखा नहीं है… और क्या इस चोरी ने हमारी भावनाओं के साथ खिलवाड़ नहीं किया है… .

अगर आपको किसी की कोई पोस्ट अच्छी लगती है तो ये एक अच्छी बात है…… और आप चाहते हो कि वो अच्छी पोस्ट और भी ज्यादा लोग पढ़े तो वो और भी अच्छी बात है…… पर उसे अपने नाम से पोस्ट कर देना कहाँ की ईमानदारी है…..

किसी के लेख से प्रेरणा लेना अलग बात होती है और ये अमूनन सभी करते हैं….. हम पैदा होते हैं तो पहले अपने माता-पिता और अन्य परिवार वालों के विचारों से प्रेरणा लेते हैं और अपने सोचने-समझने की क्षमता विकसित करते हैं……. जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं अपने आस-पास के लोगों के विचारों से भी प्रभावित होते हैं और उसका असर हमारे विचारों पर भी पड़ता है…… ये तो मानव का व्यवहार ही है…. और इस तरह से प्रेरणा लेकर अपनी नई रचना लिखना गलत नहीं है…. पर किसी की रचना को ज्यों का त्यों कॉपी कर देना तो चोरी ही है……

एक अच्छे ब्लोगर को चाहिए कि वो अगर किसी और की पोस्ट अपने ब्लॉग में पोस्ट कर रहा है तो उसके असली रचनाकार का उल्लेख करें और उसे सम्मान दें…. किसी की मेहनत पर इस तरह पानी फेर कर अपने सम्मान की चाह रखना सही तो नहीं…..

और ये चोर महाशय तो काफी चालक हैं…. इन्होने ना केवल हमारी रचना बल्कि इस मंच की एक और रचना “महिमा मोबाइल की” भी कॉपी कर वहां अपने नाम से पोस्ट कर दी हैं….. और आगे भी वो अपने इस गलत काम से बाज आयेंगे हमें तो नहीं लगता ….. तो अब इस मंच के अन्य लोग भी सावधान हो जाएँ क्योंकि हो सकता है अगली चोरी आपके ही घर में हो……

मैं इस मंच के अन्य जागरूक ब्लोगर से जानना चाहूंगी कि अगर कोई इस तरह चोरी करता है तो हम क्या कर सकते हैं…… चूँकि मैं ब्लॉग कि दुनिया में नई हूँ इसलिए मुझे इसके बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं हैं….. मन इस चोरी से बहुत ही बेचैन हैं और किसी भी काम में मन लगाना मुश्किल लग रहा है….. अगर इसका ठोस हल नहीं होगा तो इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता कि हम शायद ये ब्लॉग की दुनिया से ही विदा ना ले लें….. उम्मीद है आप लोग मेरी कुछ ना कुछ मदद जरुर करेंगे….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग