blogid : 15998 postid : 694523

कुछ ऐसा कर गुजर जाएंगे हम

Posted On: 26 Jan, 2014 Others में

Ajay Chaudhary's blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

Ajay Chaudhary

13 Posts

5 Comments

वन्दे मातरम की धुन कानों में गूँजती है जब
ऐ मेरे वतन के लोगो, दिल को छु जाता है जब
जाग उठती है मेरे अन्दर भी देश भक्ति की भावना 
सोचता हु मैं भी कुछ कर गुजर जाऊ इस देश के लिए।
.
.
बदल डालू में भी इस व्यवस्था को, उखाड़ फेकूं इस भ्रष्टाचार को
 पर देश को बदलने की चाहत में खुद ही बदल जाते है हम
ना चाहते हुए भी कुछ ऐसा कर गुजर जाते है हम
 बदलना तो था देश को पर खुद ही बदल जाते है हम ।
.
.
इन भ्रष्टाचारियों को सहने की आदत सी बना लेते है हम
अपना कार्य जल्दी करने की चाहत में,भ्रष्टाचारियों को बढ़ावा दे जाते है हम
टूट से जाते है हम, पाप के सामने अपने आप को नतमस्तक कर जाते है हम
समय के आभाव में कुछ ऐसा ही कर गुजर जाते है हम।
.
.
पर अब सोच लिया है हमने भी की बहुत सह लिया अब
इन भ्रष्टाचारियों को और इन नौटंकीबजो को  ठिकाने लगा जाएंगे हम
कुछ इस कदर अपने मताधिकार का प्रयोग कर जाएगें हम
कुछ ऐसा कर गुजर जाएंगे हम।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (41 votes, average: 1.34 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग