blogid : 15998 postid : 670202

मेट्रो की रफ़्तार से धक्के खाती जिंदगी

Posted On: 15 Dec, 2013 Others में

Ajay Chaudhary's blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

Ajay Chaudhary

13 Posts

5 Comments

मेट्रो की रफ़्तार से धक्के खाती जिंदगी
कभी बसों में तो कभी ट्रैफिक में धक्के खाती जिंदगी
कभी बिजली तो कभी पानी के लिए तरसती ये जिंदगी
कभी डी एल तो कभी पासपोर्ट के लिए चक्कर काटती जिंदगी
जीने की चाहत में चरखा बनती जिंदगी।

कभी बॉस तो कभी राजनेताओ के चँगुल में फसती जिंदगी
कभी रफ़्तार तो कभी ज़िन्दगी से ही रास्ता भटक जाती ये जिंदगी
किसी के लिए हल्की धूप तो किसी के लिए सर्दी की काली रात है ये जिंदगी
किसी के लिए भ्रष्टाचार तो किसी के लिए शिष्टाचार ही है जिंदगी।

इस कलयुग में सिमटी सी जा रही ये जिंदगी
महानगरो की धूल सी बनकर रह गयी ज़िंदगी
मेट्रो की रफ़्तार से धक्के खाती ये जिंदगी।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग