blogid : 26725 postid : 104

चलो अब कुछ किया जाय

Posted On: 26 Sep, 2019 Others में

रचनाJust another Jagranjunction Blogs Sites site

अजय एहसास

23 Posts

1 Comment

ये जो संस्कृति हमारी खत्म होती जा रही है गांव से
वो घूंघट सिर पे लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
मकां हैं ईंट के पक्के और तपती सी दीवारें
वो छप्पर फिर से लाने को चलो अब कुछ किया जाये।

मचलते थे बहुत बच्चे भले काला सा फल था वो
वो फल जामुन का लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
हुआ जो शाम तो इक दूसरे का दर्द सुनते थे
चौपालें ऐसी लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
पिटाई खाया वो बच्चा शरण में मां के रहता था
वो ममता प्रेम लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
बड़ों की आहटें सुनकर बहुरिया छोड़ती आसन
वो आदर फिर से लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
पुरानी आम की बगिया में बिछी रहती थी जो खटिया
वो फिर से छांव लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
वो बच्चे धूल में खेलें कबड्डी पकड़ा पकड़ी भी
मोबाइल से बचाने को चलो अब कुछ किया जाये।
जो बैलों का चले कोल्हू वो गन्नों का पड़ा गट्ठर
वो रस गन्ने का लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
पहली बारिश की जो धारा लगे बच्चोंं को वो प्यारा
वो खुश्बू मिट्टी की लाने  चलो अब कुछ किया जाये।
सभी की थे सभी सुनते नही अब बाप की सुनते
वो आज्ञाकारिता लाने चलो अब कुछ किया जाये।
अमीरी था नही कोई लुटाते जान सब पर थे
वही फिर भाव लाने को चलो अब कुछ किया जाये।
नहींं था नल नहींं टुल्लू मगर प्यासे नहींं थे वो
अभी इस प्यास से बचने चलो अब कुछ किया जाये।
समय जो आने वाला है बड़ा लगता भयंकर है
वो एहसास बचाने को चलो अब कुछ किया जाये।

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग