blogid : 25810 postid : 1377804

साहब का उपदेश

Posted On: 30 Dec, 2017 Others में

AjayShrivastava's blogsJust another Jagranjunction Blogs weblog

ajayshrivastava

44 Posts

9 Comments

जीप से सायरन बजा, मदद की दरकार।आकर रुक गई थाने पर डीएसपी की कार।।

कोई अचरज न करे निरीक्षण है औचक।कमरे खाली देख के साहब हैं भौचक।।कुछ वसूली पर हैं गए, कुछ करते आराम। आकर दरस दे जाते हैं आरक्षक सुबहोशाम।।लॉकअप में जंग लगे ताले देखे। कुछ जम्भाई लेते मुखवाले देखे।।

क्या रिपोर्ट है, सनद होती देखकर तुम्हारे मुंडे। लोग यूं ही डर जाते हैं यहां देखकर वर्दी वाले गुंडे।।कार्रवाई नहीं और वसूली, खुले घूमते पट्टे। यहां-वहां पर चल जाते हैं देसी-स्वदेसी कट्टे।।कोई आसर न देखकर बोले जनाबे आली। कमाई सदा ईमान की नहीं कभी हो काली।।ये जानो न कभी हों अपनी पहचान के चार दिव्य आधार। तोंद, खाकी कपड़े, मूंछे और डंडे की मार।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग