blogid : 5350 postid : 578

पोखर बनाम सरकार

Posted On: 25 Oct, 2012 Others में

badalte rishteJust another weblog

akraktale

64 Posts

3054 Comments

सूख रहा जल का पोखर,खुद ताप बढ़ाकर,

कुमुद कमल सरिसर्पों का,संताप बढ़ाकर/

गरल कंठ से बह निकला,उन्माद दिखाकर,

शुष्क सरोवर में रहने, की राह दिखाकर//

 

विहग पशु ढोर चमगादड़,कर रहे जलपान,

सूख रहे पोखर सम ही,सुखे उनकी जान /

वृक्ष वृन्द खड़े किनारे,चूर मद अभिमान,

टूट पर्ण जब गिरे धरा,घटा अरु सब मान//

 

निरीह मृग यह देख रहा,सब आँख बिछाकर,

कोई चपल सा कूद रहा,अरु मौज मनाकर/

कूपमंडूक  बैठ गये,  सब  आस लगाकर,

क्या करना मितवा इनको,अब याद दिलाकर//

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग