blogid : 12075 postid : 1318053

नए ख्वाब सजाने का मन है ...

Posted On: 8 Mar, 2017 Others में

SukirtiJust another weblog

Alka

42 Posts

236 Comments

सभी को मेरी तरफ से महिला दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं …

फिर आँखों में नए ख्वाब सजाने का मन है ,
फिर नए रास्तों पे बढ़ जाने का मन है |

कुछ हसरतों को ताला लगा के चाभी थी गुमा दी ,
फिर उस चाभी को ढूंढ लाने का मन है |

फिर बाग़ में बिंदास नंगे पैर दौड़ जाऊं
फिर तितलियों को पकड़ लाने का मन है |

न जाने कहाँ खो दिया था मैंने खुद को ,
फिर आज खुद को ढूंढ लाने का मन है|

कुछ ख्वाहिशें अधूरी कुछ अधूरे ख्वाब थे ,
उन ख्वाहिशों को पूरा कर जाने का मन है |

एक उम्र गुजार दी खुश करने में सब को ,
फिर अपने लिए कुछ कर जाने का मन है |

पर लगा के अपनी सब हसरतों को आज ,
फिर आसमान में उड़ जाने का मन है
|

फिर आँखों में नए ख्वाब सजाने का मन है ,
कुछ कर जाने का मन है …


अलका ..

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग