blogid : 3412 postid : 566762

कैद मंजिल

Posted On: 15 Apr, 2019 Others में

sahity kritiman ke udgaaron ki abhivyakti

alkargupta1

90 Posts

2777 Comments

लिए अरमानों की झोली पसारे
चल पड़े तुम मंजिल अपनी तलाशने !
दुर्गम हैं राहें औ कंटीला पथ
दूर से जो छलांग लगाई
शून्य ही शून्य था वहां पर !
यथार्थ जो देखा पास से ,
मंजिल पकड़ी ही थी
सिरा छूटा हाथ से ,
ज्यों ऊषा काल में कदली के पत्तों से
ओस की बूँदें सरकती |
आंधी तूफानों ने रोड़े अटकाए
नाउम्मीदों के साये ने
हृदय को झकझोरा |
कोशिशें तो अभी भी बाकी हैं
जाना है सुदूर …..जाना है
वहीँ कहीं मिलेगा तुम्हें किनारा
वक्त के पिंजरे में शायद कहीं
कैद हो गयी है मंजिल !
कैद हो गयी मंजिल !!!!!!!!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग