blogid : 3412 postid : 541

``प्यार का घरौंदा और ये अस्तित्व-Valentine contest ''

Posted On: 12 Feb, 2011 Others में

sahity kritiman ke udgaaron ki abhivyakti

alkargupta1

89 Posts

2777 Comments

प्रथम भोर की अरुणाभ किरणें
झरोंखों से रुख करती जब इधर
करा जाता है आभास यह कि
हर रोज़ होता एक नया सवेरा है |
_______________________________

अपने नव-नव रूपों में
नित नए रंग भर जाते तुम |
चाँद रोशन होता है अम्बर में
औ अस्तित्व तुम्हारा चांदनी में |
_________________________________

बहती झील के अनमोल प्रस्तर हो
मंथन जीवन का करते जब हो |
मिल जाता वही जिसकी चाहत हो
तुम साधना औ जीवन का आधार हो |
__________________________________

चलते-चलते पथ पर रंग बिखेरते
संग राही चले हो बहुत दूर से |
ये नज़रें जिन्हें ढूंढ रहीं हैं
वो ही तो तुम मेरी मंज़िल हो |
___________________________________
मुद्दतें तो गुज़र गयी राहें तो अभी बाकी हैं
प्यार से बनाया यह घरौंदा तो बातें भी बाकी हैं !
मिल बैठ गुनगुनायेंगे जहाँ प्रेम गीत
होगा जिसमें चिर स्पंदन अभीत !!

_________*******__________

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग