blogid : 3412 postid : 509

``प्यार की आरज़ू -- valentine contest ''

Posted On: 7 Feb, 2011 Others में

sahity kritiman ke udgaaron ki abhivyakti

alkargupta1

89 Posts

2777 Comments

है मेरी आरज़ुओं में ताकत इतनी कि
सब कुछ भूल जाएँ हम तुम यहीं |
फिर ना जाना इस जहां से कहीं
कुछ हम सुनाएँ कुछ तुम कहो अपनी | 

——————————————–

चाँद पर छा रहा मस्त यौवन
सितारें भी हो रहे फ़लक हूर है
जड़ चेतन खड़े रह गए मौन
बहारें मौसम की निशा भी पुरनूर है |

                 ————————————————————-

आओ यहाँ फिर क्यों खड़े मझधार में
हम तुम मिल तराने प्रेम के गुनगुनाएं |
प्यार के सागर की बहती धार में
कुछ तुम बहो औ कुछ हम बहें |

——————————————————-

है बस यही आरज़ू कुछ हम सुनाएँ तो ,
कुछ तुम कहो अपनी है बस यही आरज़ू !
मेरी बहुत ही पुरानी डायरी के पन्नों पर लिखी हुई थीं ये पंक्तियाँ अरसों बाद उस डायरी के पन्ने खुले पंक्तियाँ पढ़ी और बस फिर सोचा क्यों न इस छोटी सी कविता को ही जा. जं. मं. पर पोस्ट कर दिया जाए ! बाल- बच्चे ,बड़े-बूढ़े , पति-पत्नी , युवक-युवती सभी बरबस ही इस प्यार की आरजुओं में खिंचे चले आते हैं…..!
————**************———–

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग