blogid : 3412 postid : 593

भाग्य की विडम्बना !

Posted On: 18 Feb, 2011 Others में

sahity kritiman ke udgaaron ki abhivyakti

alkargupta1

89 Posts

2777 Comments

सूर्य की प्रचंडता से तप्त
धरा पर थी तेज़ दोपहरी !
जर्जर थी उसकी काठ सी काया
ज़िंदगी लदी सी थी बोझों तले
____________________________
तन ढका था न पांव
उदर पृष्ठ की समवेत काया थी !
क्षीण हुई मुख कान्ति
ज्यों लगा हो ग्रहण चाँद पर !
___________________________
कोई न था रक्षक
सभी थे उसके भक्षक
आँखों में न शर्म थी न लाज
जैसे विधाता ने रचा हो कोइ खिलौना इनका !
_________________________________
बिजली सी कौंधी……!
प्रश्न का अंकुर हुआ प्रस्फुटित
कितने जन्मे अब तो `यहाँ’ असुर
कैसे बढ़ गया रेला इनका अपार ?
_________________________________
कर रहे नित्य प्रति ये जघन्य दुराचार
सिसक-सिसक कर रोवें कलियाँ द्वार-द्वार
हो रहे नर संहार भारी
अबलाओं की भी हो रही दुर्दशा न्यारी!
__________________________________
हृदय हुआ बड़ा आहत
किस किसके मन को दें राहत
कैसे करें इनको सुखी-शांत ?
भाग्य की कैसी है ये विडम्बना !
_____________________________________
हर गाँव , कस्बा, शहर , गली-गली
औ चौराहे पर बजता इनका ही बिगुल है
विगुलाघात से व्याकुल कब होगा
अब राम-सा कोई अवतार…….?
कब होगा कोई राम-सा अवतार ?????>
_____********_____

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग