blogid : 652 postid : 1535

दीवानगी

Posted On: 21 Feb, 2013 Others में

IPLHanso Hansao Khoon Badhao

allrounder

101 Posts

2506 Comments

जबसे उसकी चाहतों के खजाने मिले है

लवों को  मुस्कुराने के बहाने  मिले है

diwangiइश्क के उजालों से हुई रात रौशन

शमा  से जब – जब  परवाने मिले हैं

बा-खुदा तबसे छोड़ दी आवारगी हमने

दिल मै उसके जब से ठिकाने मिले हैं

मैखाने का रुख न किया भूलकर भी

तेरे  होंठों के जबसे पैमाने मिले हैं

दिल मिलन के गुनगुनाता है नगमे

तेरी यादों के मौसम सुहाने मिले हैं

तेरी फुरकत मैं हम क्यूँ करें आँख नम

जब साथ तेरे हंसी के जमाने मिले हैं

मेरी दीवानगी मैं तू भी हो जा कभी शामिल

मिल कभी ऐसे, जैसे कि दो दिल दीवाने मिले हैं

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग