blogid : 15302 postid : 762580

गुलाब की मुस्कान

Posted On: 11 Jul, 2014 Others में

Voice of SoulJust another Jagranjunction Blogs weblog

amarsin

71 Posts

119 Comments

मधुर पवन खुले उपवन,
महकते गुलाबों की सौंधी सुगंध,
खुले नयन कहे मृग मन,
छू लूँ हर पल, न हो कोई बंधन……
बहकते कदम झूमे तन मन,
नैनो से गिरे मोती मंद-मंद,
भवरो का गुंजन, फैला गगन,
छोटी से हंसी, छोटा सा ये मन……
संतूर की तरंग, बजता मृदंग,
माँ की ममता, शिशु का रुदन,
अनूठा बचपन, मतवाला यौवन,
गुलाब की मुस्कान, गुलाब की धड़कन,
देखे ये नयन – देखे ये नयन…..

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग