blogid : 522 postid : 82

उसका आना ना आना, बेमतलब रहा, उसके आने की जब एक वजह मिल गयी

Posted On: 25 Mar, 2013 Others में

व्यंग वाण ...थोडा मुस्कुरा लें.....धरती को हिलाने से वो पीपल न गिर पड़े....

Amit Dubey

31 Posts

48 Comments

वो किया जो करना नहीं चाहते, जो ना दे सुकून उसमे मशगूल हैं,
ना रहा दो घड़ी अपने ऊपर यकीं, आजकल हम खुद ही अजनबी हो गए,

रात आ आके फिर से डराती हमें , वक़्त क्यूँ भागता जा रहा है कहीं
हमने अपनों को आवाज़ दी थी मगर, खुद ही फिर चल दिए महफिलें छोड़कर

बीती बातें यूँ सरगम सी लगती रहीं, जैसे साँसों को एक बांसुरी मिल गयी,
उसका आना ना आना, बेमतलब रहा, उसके आने की जब एक वजह मिल गयी,

वो जो दरकार थी, दोस्त की इसलिए, एक लम्हा भी हम बेवजह जी सकें,
कोई मुद्दा न हो, कोई मकसद न हो, सिर्फ बैठे रहे, और कुछ ना कहें,

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग