blogid : 522 postid : 950251

तुम मेरे दोस्त हो क्यों कि

Posted On: 21 Jul, 2015 Others में

व्यंग वाण ...थोडा मुस्कुरा लें.....धरती को हिलाने से वो पीपल न गिर पड़े....

Amit Dubey

31 Posts

48 Comments

तुम मेरे दोस्त हो क्यों कि,

मुझ से हज़ार गुना प्रतिभाशाली होते हुए भी, अपने कई कारनामो का उल्ल्हास अपने दिल में दबा कर, मेरी एक छोटी सी खुशी को पूरे उमंग के साथ बाँट सकने का साहस है तुम में,,,

तुम मेरे दोस्त हो क्यों कि,
जिंदगी कि रफ़्तार में मेरी हजार बुराईयों को छिपाकर, मेरे किसी क्षुद्र गुण को द्विगुणित कर, मुझ को मुझ से अधिक समझकर , अदिति प्यार करने का साहस है तुम में

तुम मेरे दोस्त हो क्यों कि,

मेरे तुम्हारे बीच , क्षमा , शील, संकोच, पाप, पुण्य, कर्म , भाग्य, कर्तव्य, त्याग, धर्म, अधर्म, की परिभाषाएं दीवार नहीं बनती, सिर्फ एक खुला मैदान है, संतोष का, भरोसे का, प्यार का, विश्वास का, जिसमें उतर कर, इस रूखी दुनिया में जीने का उत्साह बना रहता है,

तुम मेरे दोस्त हो क्यों कि,
तुम मेरे कुछ और नहीं हो, सिर्फ मेरे दोस्त हो….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग