blogid : 2387 postid : 580270

अके���े चले थे......

Posted On: 13 Aug, 2013 Others में

kavitaasato ma sadgamaya

anamika

139 Posts

702 Comments

अकेले चले थे , त��������������� स���़र था
म���साफिर �����������������ि���े ������… र������े��� ज������ा थ���
���������बी सी सड़कें और दिन पिघले-पिघले
तन्हाई के जाने ये आलम कौन सी ?

पे���़ों ���े कतारों की बीच की पगडण्डी
कब से न जाने खड़ी है अकेली
स���नसा��� राहें… न क़दमों ���ी आहट
इंतजार है उसको भी ��� ज���ने किसकी !!

बस सूख����� पत्तों की ग�����रने की आहट
���ारिश की टप-टप चिड़ियों की चहचहाहट
दाखिल हो जाता हूँ अक्सर इस सफ़र में
है झींगुर के शोर औ पत्तों की सरसराहट !!

कब तक मैं समझाऊँ इस तन्हां दिल को
नज्मों से बहलाए – फुसलाये पल को
तन्हाई का साथ छुडाना जो चाहूँ
भी�����़ अजनबियो����� का नहीं भाता है मन को !!

ग��� कोई बिख���ी सी न���़्म मिल जाए
क���रन-ए -���्व�����व पर पैर पड़ जाए
बज़������������-ए-याद स��� कुछ यादें द���क जाए
���नहा जीने �����ा फि��� सबब मिल जा��� !!

Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.75 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग