blogid : 1178 postid : 583572

हिन्दू राष्ट्र से डर कैसा ?

Posted On: 23 Aug, 2013 Others में

vechar veethicaसम्भावनाओं से समाधान तक

anilkumar

31 Posts

182 Comments

लोक सभा के चुनाव जैसे जैसे पास आते जा रहे हैं , समाज के एक वर्ग को हिन्दू राष्ट्र के नाम पर डराने के प्रयास एक बार फिर तेज हो गये हैं ! कहा जा रहा है , कि यदि कोई दल विशेष सत्ता में आगया , या कोई व्यक्ति विशेष प्रधानमंत्री बन गया तो ,यह देश हिन्दू राष्ट्र बन जाये गा ! उस हिन्दू राष्ट्र के बड़े डरावने काल्पनिक चित्र प्रस्तुत किये जाते हैं ! यह ऐसे ही है जैसे कोई अल्पज्ञ और अपरिपक्व मां अपने बच्चों से अपने मन के अनुसार कार्य कराने के लिए , अथवा किसी कार्य से विमुख करने के लिए भूत का भय दिखाती है , और उस भूत का काल्पनिक डरावना चित्र अपने बच्चों के सामने प्रस्तुत करती है ! उस भूत का जिसको न उसने कभी देखा और न ही किसी अन्य ने ! वह इस बात की भी परवाह नहीं करती , की इस भूत के भय का बच्चों के मन मस्तिष्क पर क्या प्रभाव होगा ! उसका तो उद्देश्य मात्र बच्चों से तत्कालिक कार्य को सम्पन कराना ही होता है !

यह ही कार्य आज कल कुछ स्वार्थी , अदूरदर्शी दल और व्यक्तियों के समूह कर रहे हैं ! वह यह भी नहीं सोचते की , जिस प्रकार के हिन्दू राष्ट्र का डरावना चित्र वह प्रस्तुत कर रहे हैं , क्या वह भारत के पिछले पांच हजार साल के इतिहास में भी कभी संभव हो पाया है , अथवा भविष्य में भी क्या कभी वैसा संभव हो सकता है ? उनका तो उद्देश्य मात्र समाज के एक वर्ग को डरा कर उनके वोट प्राप्त करना है ! उनको इस बात की भी परवाह नहीं है की आने वाले समय में इसका समाज पर कितना घातक प्रभाव पढ़ेगा !

राजनीतिज्ञों का स्वार्थ तो समझ में आता है , परन्तु उन तथाकथित बुद्धिजीवियों की बुद्धि के दिवालियेपन पर तरस आता है , जो इस प्रकार के अभियान में शामिल पाए जाते हैं ! उनको सोचना चाहिए कि यदि हिन्दू राष्ट्र से उनका तात्पर्य ‘ Theocratic State ‘, अर्थात ‘ धर्म आधारित राज्य ‘ से है , तो क्या यह कभी भूतकाल में भारत भूमि पर संभव हुआ है , या भविष्य में किस प्रकार संभव हो सकता है ! उनको मालूम होना चाहिए कि हिंदुत्व कोई धर्म नहीं है ! ( देखें हिंदुत्व क्या और हिन्दू कौन ? ) हिंदुत्व एक सकारात्मक विचारधारा है ! इसकी पुष्टि भारत का सर्वोच्च न्यायालय भी अनेक बार अपनी टिप्पणीयों में कर चुका है ! जब हिंदुत्व कोई धर्म ही नहीं है , तो हिन्दू राष्ट्र एक Theocratic State कैसे हो सकता है ! हिन्दुओं में मूर्ति के उपासक भी हैं और मूर्ति पूजा के विरोधी भी ! हिन्दुओं में द्वैतवादी भी हैं और अद्वैतवादी भी ! हिन्दुओं में ईश्वरवादी भी हैं और अनीश्वरवादी भी ! हिन्दुओं में अनेकों इष्ट और अनेकों पूजा , उपासना एवं साधना पद्धतियाँ हैं ! इतनी विविधताओं वाले व्यक्तियों का समूह क्या कभी एक Theocratic State बन सकता है ?

‘ हिन्दू राष्ट्र ‘ शब्द का प्रयोग बीसवीं शताब्दी के दुसरे अथवा तीसरे दशक के पूर्व होता दिखाई नहीं देता ! इस शब्द की उत्पत्ति ‘ इस्लामिक राष्ट्र ‘ की प्रतिक्रिया में हुई प्रतीत होती है ! बिना इस पर विचार किये की , ‘ इस्लामिक राष्ट्र ‘ की तरह क्या हिन्दू राष्ट्र संभव है , और यदि वैसा राष्ट्र होगा भी तो उसका स्वरुप क्या होगा ! इस्लामिक राष्ट्र की रूपरेखा जिस सहिंता में निहित है , उसको धर्म ग्रन्थ की मान्यता प्राप्त है ! उसमें शासन की विधि , दंड , नियम , कानून , विधान आदि सब निर्धारित हैं ! इस लिए इस्लाम के अनुयाई अपने लिए उस प्रकार के शासन की आपेक्षा करते हैं ! इस आपेक्षा के ही सब्ज बाग दिखा कर मोहम्मद अली जिन्ना ने भारत के मुसलमानों को देश विभाजन के लिए उकसाया था ! जिसके कारण भारत के लाखों मुस्लमान अपना घर बार छोड़ कर इस मुगालते में पाकिस्तान गये थे , की यह उनकी हिजरत है , ( पैगम्बर मोहम्मद साहब ने मक्का से मदीना की हिजरत करी थी , और वहां इस्लामिक नियमों के अनुसार शासन की स्थापना की थी !) उनको आशा थी की पाकिस्तान इस्लामिक नियमों के अनुसार इस्लामिक देश बनेगा ! उसने अपने को इस्लामिक देश घोषित अवश्य कर दिया परन्तु वह आज तक इस्लामिक देश नहीं बन सका है ! वह तो मुस्लिम आबादी की बहुलता के कारण मात्र एक मुस्लिम देश है ! पाकिस्तान ही नहीं मुस्लिम बाहुल्य वाले अधिकतर देश मुस्लिम देश ही हैं ! इस्लामिक देश तो उँगलियों पर गिने जा सकने वाले चंद एक देश ही हैं !

इस्लामिक शासन की अवधारणा के कारण कुछ विद्वानों का मत है की ‘ इस्लाम के लिए भूमि आवश्यक है ‘ ! उनका विचार है की जिस स्थान पर भी इस्लाम के अनुयाई बहुसंख्यक हो जाते हैं , वह भूमि के उस हिस्से को इस्लामिक देश घोषित करने को तत्पर हो जाते हैं , अथवा घोषित कर देते हैं ! पाकिस्तान का निर्माण उनके इस विचार को बल प्रदान करता है ! परन्तु मौलाना वाहिदुद्दीन जैसे
भारतीय इस्लामिक विद्वान् इस विचार को सिरे से ख़ारिज करते हैं ! उनके अनुसार इस्लाम का भूमि अथवा शासन से कोई सम्बन्ध नहीं है !

हिन्दू विचारधरा में इस्लामिक शासन के समानं हिन्दू शासन का कोई शास्त्रीय आधार नहीं है ! यहाँ पर धर्म केवल व्यक्ति के आचरण को नियंत्रित करने और उसके व्यक्तित्व के उत्थान के लिए है ! धर्म क्या है ? इस को स्पष्ट करते हुए मनुस्म्रती में कहा गया है
धृतिः क्षमा दमोस्तेयं, शौचमिनिन्द्रयनिग्रहः ।
धीर्वीद्द्या सत्यमक्रोधो, दशक धर्म लक्षणम ।। “

अर्थात धैर्य , क्षमा , संयम , चोरी न करना , शौच ( स्वच्छता ) , इन्द्रियों को वश में रखना , बुद्धि , विद्या , सत्य का पालन करना और क्रोध न करना ! यह धर्म के दस लक्षण हैं ! तात्पर्य यह कि भारतीय परम्परा में धर्म नितांत व्यक्ति से ही सम्बंधित है ! धर्म के अंतर्गत कर्तव्यों का समावेश है ! तब ही तो कहा जाता है कि पुत्र धर्म , पितृ धर्म , मातृ धर्म , प्रजा धर्म , राज धर्म आदि आदि ! अर्थात पुत्र , माता , पिता , प्रजा और राजा आदि के क्या कर्तव्य हैं , उसको धर्म कहा गया है ! राजा के क्या कर्तव्य हैं , अर्थात राजा का क्या धर्म है ? इसका भारतीय वाग्मेय में अत्यंत स्पष्ट उल्लेख है !

महाभारत के शांति पर्व में कहा गया है :-
” यो रंजति प्रजान् सः राजा “
अर्थात जो प्रजा को सुखी रख सके , प्रजा का कल्याण कर सके , वह ही राजा कहला सकता है ! शुक्रनीति में राजा को युग प्रवर्तक कहा गया है :-
” युगप्रवर्तको राजा धर्माधर्मप्रशिक्षणात् । “
मनुस्मृतिकार राजधर्म को और स्पष्ट करते हुए कहते हैं :-
” यथा सर्वाणि भूतानि धरा धारयते समम् ।
तथा सर्वाणि भूतानि विभ्रतः पार्थिवव्रतम ।। “

अर्थात पृथ्वी जिस प्रकार माता के समान अपने सभी बच्चों का समान रूप से ध्यान रखती है , उसी प्रकार राजा को भी समस्त जीवों का समान रूप से ध्यान रखना चाहिए !
रामचरित्रमानस में गोस्वामी तुलसीदास ने भी रामराज्य का वर्णन करते हुए कहा है कि :-

दैहिक दैविक भौतिक तापा ! रामराज नहीं काहुहि व्यापा !!
सब नर करहीं परस्पर प्रीती ! चलहिं स्वधर्म निरत श्रुत निति !!

अर्थात रामराज्य में जन जन में आपस में प्रेम है और सब अपने अपने धर्म और नीति का पालन करते हैं ! राजधर्म की विशद व्याख्या में आचार्य चांणक्य का नाम प्रमुख है ! उन्हों ने भी कहीं पर भी राजा को धर्म के आधार पर भेदभाव करने अथवा उत्पीणन करने का निर्देश नहीं दिया है !

प्राचीन भारत में अधिकांश समय राजतन्त्र ही रहा है ! जिसमें अधिकतर अच्छे और योग्य एवं कुछ बुरे और अयोग्य शासक भी हुए ! परन्तु कहीं ऐसा उदाहरण नहीं मिलता कि किसी राजा ने अपनी प्रजा पर धर्म के आधार पर भेदभाव किया हो अथवा उत्पीणन किया हो ! किसी भी राजा ने धर्म के आधार पर अपनी प्रजा पर ‘ जजिया ‘ जैसा कोई कर भी कभी नहीं लगाया ! आजादी के बाद तक भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य पर हिन्दू राजा का शासन था , जिसकी अधिसंख्य आबादी इस्लाम के अनुयाइयों कि है ! वहां पर भी कभी धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं हुआ ! यह बात दूसरी है कि हिन्दू राजा के शासन कि अनुपस्थिति में ही कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों को अपना घर बार छोड़ पलायन करने को विवश होना पड़ा ! इस प्रकार का पलायन किसी हिन्दू राजा के राज्य में कभी देखने में नहीं आया !

फिर किस हिन्दू राष्ट्र का भूत दिखा कर समाज के एक वर्ग को डराया जारहा है ! यह देश और हिंदुत्व के प्रति अपराध है !

मध्य काल में पश्चिम और मध्य एशिया से अनेक समुदाय आकर भारत भूमि पर बसे ! वह अपनी भाषा में देश को ‘ स्तान ‘ कहा करते थे , जो संभवत: ‘ स्थान ‘ शब्द का अपभ्रंश है ! जहाँ जिस समुदाय अथवा कबीले का बाहुल्य हुआ करता था ,वह उसको उसके स्तान के नाम से पुकारते थे ! जैसे तुर्क लोगों का देश तुर्किस्तान , अफगान लोगों का देश अफगानिस्तान , उजबेक लोगों का देश उज्बेकिस्तान , कज्जाक लोगों का देश कज्जाकिस्तान आदि आदि ! चूँकि भारत भूमि पर हिन्दू विचारधारा के लोगों का निवास था , इस लिए उन लोगों ने इस देश का नाम अपनी भाषा में हिंदुस्तान रखा ! हमको कोई आपत्ति नहीं है ! परन्तु यदि हम इसको अपनी भाषा में हिन्दू देश अथवा हिन्दू राष्ट्र कहें , तो किसी को क्यों कोई आपत्ति होनी चाहिए !

धर्म के आधार पर देश नहीं बना करते ! अगर ऐसा होता तो इस्लाम के अनुयाइयों के इतने सारे देश न होते ! देश बनते हैं सांस्कृति के आधार पर ! पाकिस्तान का निर्माण इस्लाम के आधार पर हुआ , परन्तु बांग्लादेश उससे टूट कर एक अलग देश बन गया ! जब की दोनों ही देशों में इस्लाम के अनुयाइयों का ही बाहुल्य है ! फिर वह क्यों दो अलग अलग देश बने ? क्यों की दोनों देशों की सांस्कृति अलग थी ! इस लिए वह एक देश के रूप में रह ही नहीं सकते थे ! हिंदुत्व का आधार मात्र धर्म नहीं सांस्कृति है ! भारतवर्ष सांस्कृति के आधार पर और जनसंख्या के अनुसार भी १५ अगस्त , सन १९४७ के पूर्व भी हिन्दू राष्ट्र था और उसके उपरांत आज भी यह हिन्दू राष्ट्र है ! जो कोई भी इस देश की समृध सांस्कृति का सम्मान करता है और इस देश को तहे दिल से प्यार करता है , उसका कोई भी धर्म अथवा उपासना पद्धति हो , उसको हिन्दू राष्ट्र से डरने की कोई आवश्कता नहीं है !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग