blogid : 14921 postid : 691332

अंहकार मे डूबके नेता CONTEST

Posted On: 21 Jan, 2014 Others में

मेरी कलम सेस्पष्ट सोच

ANJALI RUHELA सचिव at Womenline (महिला विकास परिषद)

62 Posts

20 Comments

अंहकार मे डूबके नेता

अंहकार मे डूबके नेता मत कर तू गुमान, सदा नहीं रहा अभिमान |

यह सब खेल समय का भैया, न चले कपट के धंधे |

एक समय ऐसा आवे , सारी ताकत धरी रह जावे ||

पिछली करनी जब याद आवे ,उसकी सोच दिल घबरावे |

नहीं किसी की चली एक सी , समय बड़ा बलवान ||

सदा नहीं रहा अभिमान……………….

यह ताकत तो आनी जानी , बदले शासक कुर्सी पुरानी |

बिना किस्ती कोई पार न पावे ,सारी ताकत धरी रह जावे ||

चुनाव महा समर  जब आवे जनता अपना फैसला सुनावे |

सकट मे फस जाते प्राण, समय बड़ा बलवान ||

सदा नहीं रहा अभिमान……………….

जो बोएगा सो काटेगा , पापो को अपने चटेगा |

बाली बलि ओर कस छली , रावण सबसे महाबली ||

नाम निशान बचा न पाये , चले गये जैसे थे आए |

सत्यमार्ग पर चलने वाले ,पावे है सम्मान ||

सदा नहीं रहा अभिमान……………….

सदा नहीं रहा अभिमान……………….

अंजलि रूहेला

अंबेहटा पीर सहारनपुर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग