blogid : 14921 postid : 1126046

घास की रोटी

Posted On: 29 Dec, 2015 Others में

मेरी कलम सेस्पष्ट सोच

ANJALI RUHELA सचिव at Womenline (महिला विकास परिषद)

62 Posts

20 Comments

हिंदुस्तान आज इतनी सारी जनसंख्या के साथ सब धर्मो के साथ रहते हुये भी विकासशील देश है हमारा हिंदुस्तान आज विकसित देश होता अगर ये देश के ठेकेदार देश के धन को यू बरर्बाद ना करते, आज दिल्ली मे हुये खुलासे से एक कंगाल हुई कपंनी फिर से कैसे इतनी टिकाऊ बनकर उभर गई सारे सरकारी टेंडर उसे क्यो दिये गये
२-३साल मे ऐसा क्या हुआ जो कपंनी करोडो मे अपना मुनाफा बैलेससीट पर दर्शा रही है । एक तरफ तो बुदेंलखड मे लोग घास की रोटी बना कर अपना व अपने बचो का पेट भर रहे है ।दूसरी तरफ ये लोग धन को यू बरर्बाद करने मे लगे हुए है माना कि वहॉ सुखे के हालात है लेकिन कया वहॉ इतना भी धन नही है कि लोग को सही तरीके से खाना नसीब हो जाये। क्या है ये सब देश का सिस्टम किसके भरोसे चल रहा है, हमारे देश मे इस सोने की चिड़िया मे तो ऐसा नही होना चाहिये था कि कही तो लोग घास की रोटी खॉ रहे है ओर कही ओर तो करोडो रुपये मे लोग केवल अपनी बर्थड़ेपार्टी सेलीब्रटे कर रहे है। देश की व्यवस्था इतनी लचर कैसे हो सकती है ऐसे तो कोई महत्व नही रह जाता इन सब मंत्री, मुख्यमंत्री,प्रधानमंत्री विधायक ओर सब छोटे बडे नेता का…………..

देखो भुखे मरते ये लो, कैसे लगा देश को ये रोग
खॉ गये सब ये देश के ठेकेदार, मचा हुआ है सब जगह
हॉहॉकार-हॉहॉकार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग