blogid : 12134 postid : 67

'गजल' जिन्दगी'

Posted On: 25 Oct, 2012 Others में

AGOSH 1D.r HIMANSHU SHARMA

Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

31 Posts

485 Comments

‘जिन्दगी की राहे,
फिसलन भरी रही।
कदम डगमगाये,
अब मंजिल दूर नहीं।
ढूँढते-ढूँढते दूर,
चले आये राही ।
जिनकी तलाश थी,
वह स्वंयम आ मिली ।
अधर मौन थे,
आंखो से आंख मिली
बेबसी के द्वार पर
खिल गयी एक कली ।
महक उठी जिन्दगी,
उड़कर हवा चली
कैसे कहूं बात उस रात की ,
खिड़की खुली रही।
जिन्दगी जीने को थी,
पर सांस निकल गयी
कारवा संजाये थे
बहुत पर अपनी एक ना चली ।
तुझे देखते रहे,
चलते -चलते लीक पर ।
जहां – जहां तु चली
हाथ मलते रहे खुवाव
जब रूठ कर हमसे तु चली’ ।

हिंदी लेखक डॉo .हिमांशु शर्मा(आगोश )

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग