blogid : 4247 postid : 99

अँधेरे और चाँद की कश्मकश

Posted On: 3 Jun, 2012 Others में

मेरे मन के बुलबुलेJust another weblog

anoop pandey

30 Posts

234 Comments

चार दिनों की जीत की कीमत ग्यारह दिन वनवास;
चाँद लिए लड़ता है तारों की बारात.

जीवन की परिभाषा, वेदों का है सार,
चाँद सिखाता धर्म विश्व को, मर कर कितनी बार.

तुम भी चुप मत रह जाना; कहीं देख कर अंधियारा,
जल जाना खुद दीपक बन कर, अमर रहेगा नाम तुम्हारा.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग