blogid : 4247 postid : 100

परदेस से पिया को पाती.....

Posted On: 5 Jun, 2012 Others में

मेरे मन के बुलबुलेJust another weblog

anoop pandey

30 Posts

234 Comments

इन ऊचे ढलानों से हवा जो उतरती है,
कभी कभी रुक कर मुझसे बातें भी करती है.

कहती है हाल तुम्हारा ; गीत नए सुनाती है;
हौले से मेरे कानो में ‘ मिस यू डार्लिंग’ कह जाती है.

गहरी काली चूनर ओढ़े ; सांझ घनेरी आती है;
आँखों में सपने भरती है; थपकी दे के सुलाती है.

सुबह सुबह सूरज की लाली नए अरमान जगाती है;
झुलसाती गर्मी अपने संघर्षों की याद दिलाती है.

इतना अपनापन है सखी यहाँ ; फिर भी आँखें भर आती हैं,
सुख चाहे जितना भी हो पर याद तुम्हारी आती है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग