blogid : 11571 postid : 616606

कुछ पल बनारस के :बनारस यात्रा

Posted On: 1 Oct, 2013 Others में

mere vicharJust another weblog

Anuj Diwakar

13 Posts

39 Comments

लखनऊ से चली ट्रेन अपने नियत समय से एक घंटे की देरी से अपने स्थान पर पहुँचने वाली थी सुबह के लगभग पांच बजे थे और मौसम हल्का ठंडा लग रहा था। मेरे साथ मेरे दो फ्रेंड और थे।सभी यात्रियों की नज़रें खिड़की के बाहर टिकी  थी। तभी हमे एक बोर्ड दिखता है जिस पर लिखा होता है-वाराणसी जंक्शन। हमे यंही पर उतरना था। हम सभी ट्रेन से उतरने की तैयारी करने लगते हैं। लेकिन यह क्या !!! इतना साफ़ दिखा रहा मौसम अचानक बादलों से घिर जाता है और ताबड़तोड़ बारिश की बूंदे खिड़की से हमे भिगोने लगती हैं। हम लोग प्लेटफॉर्म पर उतरते हैं और भीगते-2 तीन शेड के नीचे खड़े हो जाते हैं। हमे अहसास हो रहा था कि मानो स्वयं महादेव अपनी नगरी में जलाभिषेक कर हमारा स्वागत कर रहे हों। बारिश कम होने पर हम तीनों स्टेशन से बाहर निकलते हैं और टिकने के लिए होटल ढूंढ़ते हैं। हमे स्टेशन के पास ही होटल मिल जाता है। हमे दो दिन बाद लखनऊ के लिए वापस निकलना था।इसलिए स्टेशन के पास ही होटल मिलने पर हमे ज्यादा असुविधा नहीं हुई। होटल पहुँचते ही हम लोग अपने रूम में जाते हैं। फ्रेश होने के बाद थोड़ा आराम करते हैं। और फिर नाश्ता करते हैं।

चूँकि मेरे एक फ्रेंड का काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू ) में इंटरव्यू था। इसलिए हम दोनों उसको बीएचयू में ड्राप करके काशी विश्वनाथ जी के दर्शन के लिए चल पड़ते हैं। ऑटो वाले के वंहा न जाने पर हमे डेढ़ किलोमीटर पैदल ही चलना पड़ता है। धीरे-2  हमे बल्लियों और उनके बीच में खड़े कांवड़ियों की लम्बी कतार दिखने लगती है। करीब आधा किलोमीटर और चलने के बाद हम ऐसी जगह पर पहुँच जाते हैं जहाँ बल्लियाँ ख़त्म होती हैं और कतार नीचे मंदिर के प्रांगण की तरफ जाती है। विपरीत दिशा से आ रही बल्लियाँ भी वंही ख़त्म हो रही थी। लेकिन उस कतार में भीड़ कम थी। इसलिए हम दोनों तुरंत प्रसाद,दूध,बेलपत्र लेते हैं और अपने सेलफोंस,डिजिटल कैमरा वगैरह लाकर में रखवाकर उसी कतार में लग जाते हैं। (इलेक्ट्रॉनिक डिवाईसेज़ को मंदिर में लाना वर्जित था )लेकिन दोपहर के बारह बज जाने के कारण मंदिर के कपाट बंद हो जाते हैं और हम दोनों लगभग एक घंटे तक वंही के वंही खड़े रहते हैं।

सुबह की सुहावनी बारिश के बाद हमे अंदाज़ा नहीं था कि मौसम इतनी जल्दी करवट लेगा। हम दोनों काफी देर तक झुलसाती गर्मी में तपते रहें। शरीर का पूरा पानी पसीना बनकर हमे पूरा भिगो चुका था।ऐसा लग रहा था जैसे महादेव अपने दर्शन देने के लिए हमारी परीक्षा ले रहे हों। हमने एक छोटे लड़के को बीस रूपए देकर ठंडे पानी की बोतल लेन को कहा।वह मान गया। उसने आते ही हमे किनले की बोतल थमा दी और तब हमने अपना गला तर किया। कतार नीचे मंदिर की तरफ बढ़ने लगी थी और हम भी भारत में स्थित बारह जोतिर्लिंगों में से एक ज्योतिर्लिंग के दर्शन के लिए उत्साहित और लालायित थे। लोगों की सुरक्षा के लिए सिक्योरिटी टाइड थी।बल्लियों की कतार से लेकर मंदिर के अन्दर तक भारी संख्या में पुलिस बल तैनात था। मंदिर के प्रांगण में पहुँचते ही मंदिर का ऊपरी व मध्य भाग दिखाई देता है। मंदिर का ऊपरी भाग काफी लम्बा और हल्का गोलाई लिए त्रिभुजाकार है जो पूरा सोने(गोल्ड) से निर्मित है। मंदिर के गर्भगृह में काशी विश्वनाथ विश्राम करते हैं। शिवलिंग दर्शन व दूध चढ़ाने के बाद हम लोग प्रार्थना करते हैं और गर्भगृह से बाहर  आ जाते हैं। यह सब बहुत जल्दी हुआ। नंदी के कान में अपनी-2  इच्छा बताने के बाद हम दोनों वंहा स्थित अन्य मंदिरों की तरफ बढ़ते हैं। इन सब के बाद हम गंगा घाट (दशाश्वमेध घाट) की ओर प्रस्थान करते हैं। यह सोचकर कि वंहा डुबकी लगायेंगे लेकिन वंहा पहुँचने पर हमने पाया कि वंहा का नज़ारा तो कुछ और ही था। गंगा जी खतरे के निशान पर थी।सीढ़ियों से लगभग 30 मीटर की दूरी के बाद का क्षेत्र प्रतिबंधित था। लोग उसी दायरे में गंगा जी में स्नान कर रहे थे और पिपियों में जल भरकर ले जा रहे थे। हमने बारी-2 से गंगा नदी में प्रवेश किया और अर्ध्य देने के बाद चुल्लू में जल लेकर अपने ऊपर छिड़क लिया। (हमारे यंहा इसे स्नान के बराबर मान लिया जाता है) हम दोनों होटल वापस लौट आते हैं। शाम को तीनों फ्रेंड साथ बैठते हैं और अगले दिन की प्लानिंग करते हैं।

अगले दिन सुबह दस बजे हम तीनो होटल छोड़ देते हैं और सारनाथ के लिए निकलते हैं। सारनाथ स्टेशन से आठ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इसी जगह पर गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश दिया था। सारनाथ पहुँचने पर हम सबसे पहले म्यूजियम जाते हैं जहाँ पर सम्राट अशोक द्वारा बनवाया गया चक्र(अशोक चक्र),अशोक की लाट व कई प्राचीन मूर्तियाँ विद्यमान है। म्यूजियम के बाद हम सभी बुद्ध के मंदिर जाते है। अन्दर प्रवेश करते ही लगभग सौ मीटर दूर स्थित बुद्ध जी की लम्बी विशालकाय मूर्ति दिखती है। मूर्ति के पास ही एक मंदिर स्थापित है जिसे ‘थाई मंदिर’ के नाम से जाना जाता है। उसी के निकट बुद्ध की तीन-चार छोटी बड़ी प्रतिमाएं विद्यमान है। यंहा कुछ देर रुकने के बाद हम लोग सारनाथ का स्तूप देखने के लिए चल पड़ते हैं। टिकट लेने के बाद जैसे ही हम लोग अन्दर जाते हैं तो दूर से ही स्तूप दिखने लगता है। यह काफी बड़ा है। इसका आकार शिवलिंग के आकार से काफी मिलता जुलता है। यंहा घूमते-2 हमे लगभग एक घंटा लग गया। इसके बाद यंहा से निकलकर एक और मंदिर जाते हैं जिसे ‘जापान का मंदिर’ कहते हैं। मंदिर तो बहुत थे लेकिन पिछले तीन-चार घंटे से लगातार घूम रहे हम तीनों के शरीर में इतना सामर्थ्य नहीं बचा था कि आगे और चल सके। दोपहर का समय था और धुप भी बहुत तेज़ थी।इसलिए हम वंहा से ऑटो करके होटल वापस आ गए।

होटल में आराम करने के बाद शाम को तीनो लोग भैरव मंदिर के लिए निकलते हैं। चूँकि मेरे एक फ्रेंड का इंटरव्यू होने के कारण वह काशी विश्वनाथ जी के दर्शन नहीं कर पाया था। इसलिए भैरव दर्शन के उपरान्त हम तीनों फिर से काशी विश्वनाथ मंदिर गये। लेकिन हैरानी हो रही थी कि सावन के सोमवार पर चंद मिनटों में हमे शिवलिंग के दर्शन हो गए। आज भीड़ कल के मुकाबले काफी कम थी और कांवड़िएँ तो नदारद थे। हम मंदिर से गंगा घाट की तरफ बढ़ते हैं। शाम के छः बज चुके थे। गंगा आरती हो रही थी। हम भी उसमे सम्मिलित हुए और दीपदान भी किया। क्या दृश्य था ! क्या अनुभव था ! महादेव की इस नगरी में आकर मैं धन्य हो गया। और गंगा जी के स्पर्श से ही मैं सभी पापों से मुक्त हो गया। इन्ही सब विचारों से परिपूर्ण मेरा मन लौट आता है उस पटरी पर जहाँ से मेरी लखनऊ वापसी की ट्रेन गुजरने वाली थी। अब वह समय आ गया था जब मुझे बनारस को अलविदा कहना था। हम सब ट्रेन पर सवार हो गए थे। गाडी चल पड़ी थी। और कुछ समय बाद ही हमने बनारस पार कर लिया था।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग