blogid : 26958 postid : 17

विचित्र आकर्षण

Posted On: 18 May, 2019 Common Man Issues में

anupamamishraJust another Jagranjunction Blogs Sites site

anupamamishra

8 Posts

0 Comment

दुख में कितना आकर्षण है !
ये जानता है एक चित्रकार,
उठाता है जब वो रंग
रंग देता है गरीबी,भूखमरी
कंकाल देह,तरसते नयन।
दुख में गजब का सम्मोहन है !
ये जानता है वो कहानीकार
जो रचता है अपनी कथाओं में
रोते,तड़पते हुए बच्चे का बचपन,
बिछड़ते हुए लोगों का वो आखिरी आलिंगन,
स्वल्प भोजन के हकदार वो बड़े-बड़े परिवार
और भूखे पेट सो जाने का वर्णन।
हाँ, सुख के पास वो वशीकरण नहीं
जो खींच सके इस तरह किसी भी हृदय को,
रहती सबको ही है सुख की दरकार
पर वो दुख ही है जो छू लेता है
हृदय के हर तार।
तभी तो करुणा में लिपटी हुई तस्वीरें,
बिकती हैं ऊँची कीमत पर
सच ! दुख में गजब का आकर्षण है।

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग