blogid : 15450 postid : 589810

झूठे सरकारी दावोँ की हकीकत बताता मजदूर(कविता)

Posted On: 31 Aug, 2013 Others में

अनुभूतिJust another Jagranjunction Blogs weblog

arunchaturvedi

38 Posts

35 Comments

आग उगलती जेठ दुपहरी
आसमान से लपटेँ गिरतीँ
नीचे से धरती है जलती
सहकर गर्मी की असह्य वेदना
गर्म आँच पर लौह गलाता
कोल खदानोँ मेँ पिस जाता
खेतोँ मेँ है अन्न उगाता
पर इसका बच्चा भूखा सो जाता
गर्मी,जाड़ा ,बरसातोँ मेँ
निर्जन अँधेरी रातोँ मेँ
जब दुनियाँ सोयी रहती है
सपनोँ मेँ खोयी रहती है
तजकर निद्रा और भूख -प्यास
यह अथक परिश्रम करता
दुनियाँ के चलने हेतु ,मनुज यह मार्ग बनाया करता है
दुनियाँ के विकास की खातिर स्कूल बनाता काँलेज बनाता
पर इसका बच्चा स्कूल नहीँ जा पाता
‘शिक्षा का हक’ के हक से वँचित रह जाता
बचपन की वह अल्हड़ मस्ती भूल पेट की खातिर
ले कुदाल हाथोँ मेँ खेतोँ मेँ लग जाता
उँचे ऊँचे महल बनाता
बड़े बड़े है शहर बसाता
दुनियाँ को आश्रय देता ,पर सड़क किनारे झोपड़ियोँ मेँ ,फुटपाथोँ पर इसका घर है
सड़क किनारे यह सो जाता
सीधा -साधा मनुज बेजुबान बन ,जुल्म ,दर्द और पीड़ा सहता
आजादी का 60 वर्ष बीता
फिर भी शोषण उत्पीड़न सहता
सबको शिक्षा,सबको भोजन, सबको आश्रय ,इस झूठे दावे की पोल खोलता

अरुण चतुर्वेदी ‘अनंत’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग