blogid : 13187 postid : 856966

तीन रुबाईयां

Posted On: 27 Feb, 2015 Others में

Man ki laharenJust another weblog

अरुण

593 Posts

120 Comments

रुबाई
*******
बैद मन का.. मर्ज़ को अच्छा नही करता
टेढ़ को सीधा करे …..अच्छा नही करता
सबके सब सीधे से पागल.. ऐसे सीधों से
वह कभी मिलता नही …चर्चा नही करता
– अरुण
रुबाई
*****
ठहराव नही है ……है बहाव जिंदगी
न रुका कुछ भी, न पड़ाव है जिंदगी
न चीज़, न शख़्स, न जगह है कोई
‘है’ का न वजूद यहाँ, बदलाव है जिंदगी
– अरुण

रुबाई
*******
सिक्के के पहलुओं में दिखता विरोध गहरा
भीतर से दोनों हिलमिल आपस में स्नेह गहरा
ऊपर से दिख रही हो आपस की खींचातानी
भीतर में बैरियों के … बहता है प्रेम गहरा
– अरुण

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग